0

संयुक्त अरब अमीरात और उसकी राजधानी अबू धाबी में एक चेतावनी जारी की गई है, जो लोगों को गंभीर बीमारी से बचाने और लगातार सामने आ रहे बीमार करने वाले मामलों से बचाने के लिए हैं. बता दें कि UAE के सवास्थ्य मंत्रालय और काबिल डॉक्टरों ने चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि राजधानी में मांस, मुर्गी और अंडे के लिए खरीदारी करते समय सतर्क रहें. साथ ही सऊदी के अधिकारियों ने घोषणा की है कि दुबई में खाद्य विषाक्तता(फूड पोइशनिंग) के 800 से अधिक मामले सामने आए हैं. देश भर में अधिकांश अस्पतालों को रोगियों को भोजन विषाक्तता के लक्षण मिल रहे हैं.

इस मामले में यूएस-यूएई बिजनेस काउंसिल ने बताया कि पूरे देश में कम से कम 104 अस्पताल हैं, जो दर्शाते हैं कि लगभग 312 लोगों में हर रोज भोजन विषाक्तता के लक्षण मिल रहे हैं. इस सबंध में बेरेन इंटरनेशनल हॉस्पिटल के सामान्य व्यवसायी डॉ मारिया सिद्दीक पानवार ने कहा कि अस्पताल को हर दिन कम से कम 20 खाद्य विषाक्तता मामले मिल रहे हैं.
 
उन्होंने कहा, “अब हमें कई मामले मिल रहे हैं, खासकर गर्मियों के मौसम के दौरान. अंडे, विशेष रूप से क्रैक किए गए अंडे, खाद्य विषाक्तता फैलाने में एक बड़ा अपराधी हैं. सैल्मोनेला के कारण खाद्य विषाक्तता के मामलों में वृद्धि हुई है और अधिकारियों ने 180 रेस्तरां बंद करने सहित वायरस को नियंत्रित करने के उपाय किए हैं.”

उन्होंने इंगित किया कि इससे केवल उपभोक्ताओं या आम आदमियों को ही नहीं सावधान रहना चाहिए बल्कि रेस्तरां, कैफेटेरिया और किराने की दुकानों को भी स्वास्थ्य और सुरक्षा को सतर्क रहना चाहिए. उन्होंने चेतावनी देते हुए बताया, “अगर साल्मोनेला नियंत्रित नहीं होता है, तो यह निर्जलीकरण का कारण बन सकता है. इससे लोगों जान भी जा सकती है.”

डॉ हसन सिगफ्राइड अबू-रेबीह (गैस्ट्रोएंटेरोलॉजी सलाहकार) ने यह कहा कि खाद्य विषाक्तता के मामले बढ़ रहे हैं. “यह एक बहुत ही लगातार बढ़ रही चिंताजनक स्थिति है. हम इसे दैनिक आधार पर देख रहे हैं. ज्यादातर मामलों में, जब रोगी अस्पतालों में आ रहे हैं, तो वायरस या बैक्टीरिया पहले से ही छोड़ा गया है और केवल लक्षण ही बने हैं. यह एक हिट और रन मैकेनिज्म है. इसलिए कई मामलों में, वायरस पहले से ही चला गया होता है जब हम परीक्षण करते हैं.

उन्होंने कहा कि अबू धाबी में खाद्य विषाक्तता के कारण अन्य प्रकार के सामान्य वायरस नोरोवायरस और रोटावायरस हैं. “तापमान अधिक होने पर हर प्रकार का वायरस और बैक्टीरिया होने की संभावना अधिक हो जाती है, यही कारण है कि घर पके हुए भोजन की तुलना में ले जाने वाले भोजन में खाद्य विषाक्तता होने की संभावना अधिक होती है.”


Like it? Share with your friends!

0
user

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: