जिस बात का था ड'र पीएम इमरान ने किया वही काम। अजित डोभाल ने की उच्च'स्तरीय बैठक


0

Article 370: भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में पुलवामा हम’ले के बाद से ही काफी त’नाव देखने को मिल रहा है। दोनों देशों के रिश्तों में त’ल्खी तब और बढ़ गई जब भारत ने जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा हटाते हुए अनुच्छेद 370 (Article 370) और अनुच्छेद 35A (Article 35 a) को खत्म कर दिया। इसके बाद से ही पाकिस्तान बुरी तरह से बौखला गया है। खुफिया एजें’सी की जानकारी के मुताबिक अब इस्लामाबाद ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (गुलाम कश्मीर) में एक दर्जन आतं’की कैंपों को जम्मू कश्मीर के साथ-साथ अंतरराष्ट्रीय सीमा पर भी सक्रिय कर दिया है। फिलहाल, आर्मी को घाटी में हा’ई अल’र्ट पर रखा गया है। खुफि’या रिपोर्ट के अनुसार हाल ही में मसूद अजहर के भाई को भी वहां देखा गया था।
 
पिछले सप्ताह इन शिविरों के आसपास आतं’कवादियों की बड़ी मूवमेंट भी देखी गई है। हालांकि, पेरिस में स्थित एक अंतर-सरकारी निकाय फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) द्वारा मई 2019 की समय सीमा के मद्देनजर ये कैंप लगभग बंद थे। शीर्ष खुफिया सूत्रों ने कहा कि भारतीय सुरक्षा बलों को गुलाम कश्मीर क्षेत्र के कोटली, रावलकोट, बाग और मुजफ्फराबाद में आ’तंकी कैंपों के रूप में हाई अलर्ट पर रखा गया है, नियंत्रण रेखा (LoC) की सीमा पर पाकिस्तान की सेना की अस्थिरता के साथ सक्रिय किया गया है।

इमरान बोले भारत में हुआ पुल’वामा जैसा हमला तो हम जिम्मेदार नहीं दो दिन पहले, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने संसद के संयुक्त सत्र में कहा था कि अगर भारत में पुलवामा की तरह (या इससे भी बड़ा) आतं’की हमले को अंजाम दिया जाता है तो इस्लामाबाद ज़िम्मेदार नहीं होगा। इमरान खान के इस बयान ने जैश-ए-मोहम्मद (Jash-e-Mohammed) और लश्कर-ए-तैयबा (lashkar e taiba) जैसे आतंकी संगठनों को स्वतंत्रता प्रदान की है और साथ ही इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) एजेंसी, पाकिस्तान में उनके हैंडलर्स को प्रशिक्षण शिविर और लॉन्च पैड फिर से सक्रिय करने के लिए।
 
पीओके में देखा गया मसूद का भाई अजहर खुफिया रिपोर्टों से पता चलता है कि मुजफ्फराबाद क्षेत्र के कोटली और शावई नाला, अब्दुल्ला बिन मसूद शिविरों के पास जेइएम, लश्कर और तालिबान के 150 से अधिक कैडर कथित रूप से फागोश और कुंड कैंपों में एकत्र हुए हैं। खुफिया रिपोर्टों के अनुसार, जेइएम के प्रमुख मौलाना मसूद अजहर के भाई इब्राहिम अजहर को भी पीओके क्षेत्र में देखा गया था।

अजीत डोभाल ने की उच्च स्तरीय बैठक सुरक्षा में उच्च पदस्थ सूत्रों ने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल (जो इस समय घाटी में हैं) ने वरिष्ठ अधिकारियों के साथ एक उच्च स्तरीय बैठक की, जिसमें इंटेलिजेंस ब्यूरो के निदेशक अरविंद कुमार, जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह और शीर्ष सेना के अधिकारियों के साथ मिलकर सुरक्षा रणनीति और आतं’की खतरे पर चर्चा की।
 
लश्कर और फिदायीन समूहों ने की घुसपैठ सूत्रों ने ये भी कहा कि सुरक्षा एजेंसियां ​​इस तथ्य को मनती हैं कि पिछले एक पखवाड़े के दौरान सीमा पार से गोला’बारी में जेइएम और लश्कर के फिदायीन के कुछ समूहों ने कथित तौर पर कश्मीर में घुसपैठ की। इन्हें बेअसर करने के लिए विभिन्न रणनीति बनाई गई है। इससे पहले पिछले हफ्ते, भारतीय बलों ने केरन सेक्टर में एलओसी पर पाकिस्तान की बॉर्डर एक्शन टीम (बैट) द्वारा घुसपैठ की बड़ी कोशिश को नाकाम कर दिया,

जिसमें कम से कम पांच घुसपैठियों को मार गिराया गया। एक सप्ताह के भीतर BAT ने घुसपैठ की चार बार कोशिश की जिन्हें भारतीय बलों ने सफलतापूर्वक नाकाम कर दिया। LoC क्षेत्र से आतंकी संगठन पीओके के अंदर और बाहर कैडरों को प्रशिक्षित करते रहे। खैबर पख्तूनवा क्षेत्र में, अनुभवी तालिबान कैडरों की एक मजबूत पकड़ है।


Like it? Share with your friends!

0
admin

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *