रेल मंत्री पीयूष गोयल ने की यात्रियों को नई सौगात देने की घोषणा, दिल्ली, पश्चिम बंगल, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड…..!


0

एक बार फिर से रेल मंत्री पीयूष गोयल ने देशवाशियों रेलवे के तरफ से नई सौगात देने की घोषणा की है. उन्होंने यह घोषणा ट्विटर के माध्यम से की है. रेल मंत्री ने बताया भारत के सबसे व्यस्तम रूट में से एक दिल्ली-हावड़ा के बीच में नया रेलमार्ग बनाया जाएगा.

इस पर ट्रेन 160 किमी प्रति घंटा की गति से दौड़ेगी. इससे फायदा ये होगा कि अब दिल्ली से कोलकाता (Train Route) तक का सफर सिर्फ 12 घंटे में तय होगा. यह रेललाइन दिल्ली, पश्चिम बंगल, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड के लिये वरदान साबित होगी.

दिल्ली से हावड़ा जंक्शन के बीच की दूरी 1525 किलोमीटर है फिलहाल ये दूरी तय करने में 17 घंटे का समय लगता है.
इस रूट में ट्रेन पांच राज्यों- दिल्ली, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल से होते हुए गुजरेगी, जिसमें बीच में कानपुर और लखनऊ रूट भी शामिल होंगे.
एक अुनमान के मुताबिक नई दिल्ली से हावड़ा के बीच इस रूट को तैयार करने में करीब चार साल का समय लगेगा.

दिल्ली-मुंबई और दिल्ली कोलकाता रूट पर 160 की स्पीड में ट्रेन चलने के बाद रेलवे की योजना पूरे गोल्‍डन क्वाडिलेट्रल और उसके डायगोनल पर ट्रेनों को 160 की स्पीड में चलाने की है यानि दिल्ली, मुंबई, चेन्नई और कोलकाता को आपस में जोड़ने वाले सभी रूट्स पर ट्रेनों की अधिकतम स्पीड 160 कर दी जाएगी.
खास बात ये है कि गोल्डन क्वाडिलेट्रल और उसके डायगोनल पर रेलवे के महज 16 फीसदी ट्रैक बिछे हैं, लेकिन इन रूट्स पर रेलवे के 52 लाख मुसाफिर सफर करते हैं. जबकि 60 फीसदी मालगाड़ियां इसी ट्रैक पर चलती हैं. इसी भारी ट्रैफ़िक के बीच ट्रेनों की गति बढ़ाना रेलवे के लिए बड़ी चुनौती है.

इस बीच रेलवे के चितरंजन लोकोमोटिव वर्क्स ने 24 कोच की ट्रेन को 160 किलोमीटर की रफ़्तार से पटरी पर दौड़ाने वाले इंजन का भी सफल ट्रायल कर लिया है.
इस महीने की शुरुआत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की कैबिनेट कमेटी ने इस प्रोजेक्ट को पास किया था. कमेटी ने 160 किलोमीटर प्रति घंटे की गति को मंजूरी दी थी. इसके अलावा वड़ोदरा-अहमदाबाद को भी 160 किलोमीटर प्रति घंटे की इजाजत दे दी है.


Like it? Share with your friends!

0
admin

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *