क़तर के लोगों के लिए बड़ी ख़ुशख़बरी: एक और बड़े देश ने थामा क़तर का हाथ, दोहा में जश्न का माहौल


0

तुर्की ने कतर में तुर्की के राजदूत फिक्रेट ओज़र ने कहा कि इस क्षेत्र में स्थिरता और सुरक्षा के लिए बढ़ते खतरे के चलते तुर्की के मौलिक मूल्यों के कारण तुर्की ने पिछले जून में देश पर नाकाबंदी और प्रतिबंधों के बाद कतर की मदद की थी और मदद जारी रखने की बाद भी कहीं है.
 
कतर की राजधानी दोहा में एक विशेष इंटरव्यू में तुर्की के दूत ने जोर देकर कहा कि पिछले साल छोटे प्रायद्वीप देश को झुकाव की प्रतिबंध और नाकाबंदी अन्यायपूर्ण थी और सीधे कतर के लोगों को लक्षित करती थी. जिसके लिए तुर्की ने क़तर का साथ दिया था.

TURKEY ENVOY TO QATAR – FIKRET OZER

“तुर्की एक साल पहले खाड़ी देशों के बीच टूटने वाले संकट और इस क्षेत्र के लोगों और कतरों के ऊपर कल्याण और समृद्धि के लिए संकट के नकारात्मक प्रभावों के बारे में गंभीर रूप से चिंतित था. इस ढांचे में तुर्की ने त्वरित कदम उठाए हैं ओज़ेर ने कहा, “तुर्की ने सामग्री की आपूर्ति कि कतर के लोगों को आर्थिक प्रतिबंधों के कारण तत्काल आवश्यकता है.”
 
तुर्की का क़तर को समर्थन का मुख्य कारण इसके मुख्य प्रधानाचार्यों का नतीजा था, राजदूत ने कहा: “जिन तत्वों को इस देश के खिलाफ प्रतिबंधों के कारण के रूप में आगे रखा गया था, वे ना केवल तुर्की बल्कि अंतरराष्ट्रीय अभिनेताओं को सभी पश्चिमी देशों के ऊपर विश्वास से दूर थे. ” उन्होंने कहा कि तुर्की ने कतर के लोगों को प्राप्त होने वाले नुकसान को ध्यान में रखकर कतर के साथ पक्ष लिया था.

आपको बता दें की, सऊदी अरब सहित कई कड़ी देशों ने 2017 में क़तर के साथ अपने राजनयिक सम्बन्ध खत्म कर लिए थे. साथ ही क़तर पर कई प्रतिबन्ध  ही लगाये थे. खाड़ी देशों का आरोप है की क़तर आतंकवाद और ईरान को समर्थन करता है.


Like it? Share with your friends!

0
user

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *