गोपालगंज:


बिहार के गोपालगंज में badi hatya ki वारदात को अंजाम दिया गया है. हत्या का कारण प्रेम प्रसंग बताया जा रहा है. इस वारदात को एक सनकी देवर ने अंजाम दिया है. उसने अपनी भाभी के मुँह में कपड़ा डालकर उसकी हत्या कर दी.

 

 

 

दोनों के बीच काफी समय से प्रेम प्रसंग चल रहा था. मृतक महिला आफताब आलम की पत्नी 32 वर्षीया शाहिना खातून थी. पुलिस ने मृतका के शव को बरामद करने के बाद पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया है. मृतका के पति आफताब आलम दोहा कतर में रहते हैं. यह घटना भारत में बिहार के गोपालगंज के फुलवरिया थाना क्षेत्र के श्रीपुर ओपी के पांडेय परसा गांव की है.

 

 

 

पुलिस ने आरोपित देवर और उसके ससुर को गिरफ्तार कर लिया है. मृतक महिला आफताब आलम की पत्नी 32 वर्षीया शाहिना खातून थी. पुलिस ने मृतका के शव को बरामद करने के बाद पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया है. वारदात के बाद परिवार में मातम पसरा है. मृतका के पति आफताब आलम दोहा कतर में रहते हैं. जानकारी के मुताबिक, शादी के बाद से ही शाहीना का अपने देवर मोहम्मद मोबिन शेख से प्रेम-प्रसंग चल रहा था.

 

 

देवर और भाभी में दो-तीन दिनों से अनबन चल रहा था. इसी बीच, गुरुवार को दोनों के बीच अनबन के बाद नोकझोंक हुई. इसके बाद देवर ने वारदात को अंजाम दिया. वारदात के बाद जांच के लिए पहुंची पुलिस ने कमरे से रस्सी और कपड़े को बरामद करने के बाद आरोपित देवर और ससुर को गिरफ्तार कर लिया है. गिरफ्तार मोबिन शेख और उसके पिता कलीम मियां से श्रीपुर ओपी की पुलिस गहन पूछताछ कर रही है. पुलिस के मुताबिक पूछताछ के दौरान आरोपित देवर ने हत्या करने की बात स्वीकार की है.

 

 

बेटी ने कहा:

अम्मी को बचाने के लिए कोई आगे नहीं आया. चाचा ने बाहर से दरवाजा बंद कर दिया था. अम्मी चिल्ला भी नहीं पा रही थी. उसके हाथ-पैर को बांध दिया गया था और मुंह में कपड़ा ठूंस दिया गया था. शाहिना खातून की हत्या के बाद जांच के लिए पहुंची पुलिस ने बच्चों से पूछताछ की है. मृतक महिला की आठ वर्षीया पुत्री रहिना खातून ने पुलिस को बताया कि उसके चाचा ने कमरे में बंद कर हत्या कर दी. वहीं, पांच साल के समीर अली ने भी घटना जानकारी दी. शाहिना खातून के तीन छोटे-छोटे बच्चे हैं. सबसे छोटा लड़का एक साल का है.

Comments 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *

गोपालगंज:

log in

reset password

Back to
log in
error: Content is protected !!