दुबई में सिवान के ड्राइवर की हत्या, पत्नी सुप्रिया इस हाल में विदेश मंत्री तक मिल आयी

1 min


0

दो माह पूर्व पति की हत्या सऊदी के जेद्दा में किए जाने के बाद उसके शव को स्वदेश लाने के लिए दर दर भटक रही मृतक की पत्नी की मुलाकात सांसद ओमप्रकाश के सहयोग से विदेश राज्य मंत्री बीके ¨सह से हो गई। सुप्रीया की मुलाकात बीके ¨सह के सरकारी आवास पर हुई। सुप्रिया ने बताया कि वे पांच दिनों से दिल्ली में आई थी। सांसद से मुलाकात करने के बाद उन्हें पूरी व्यथा सुनाने के बाद सांसद ने समय लेकर विदेश राज्य मंत्री से मेरी मुलाकात कराई।
 

 
शनिवार को भारत सरकार के विदेश राज्य मंत्री के सरकारी आवास 36 डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम रोड दिल्ली में सांसद के निजी सचिव दिनेश चंद्र पांडेय, पिता राकेश ¨सह, देवर अनीश राय के साथ मुलाकात की। इस दौरान सुप्रिया ने विदेश राज्य मंत्री को लिखित आवेदन भी सौंपा। लिखित आवेदन में सुप्रिया ने बताया है कि उनके पति अनुज राय की हत्या 17 फरवरी 2018 को सऊदी के जेद्दा में कर दी गई है।
 

 
दो माह बीत जाने के बाद भी अभी तक शव स्वदेश नहीं लाया जा सका है। पति के शव को स्वदेश मंगाने के लिए विदेश राज्य मंत्री से मिलकर गुहार लगाई है। जिस पर विदेश राज्य मंत्री ने पीड़ित परिवार को बताया कि यह मामला मेरे संज्ञान में है। हत्या के बाद वहां कुछ कानूनी प्रक्रिया चल रही है। हत्या की वहां जांच चल रही है जो जांच अंतिम चरण में है जैसे जांच खत्म हो जाएगी शव को स्वदेश लाया जाएगा।
 
 
 
उन्होंने पीड़ित परिवार को आश्वासन दिया कि केंद्र सरकार मदद करेंगी एवं राज्य सरकार को भी पत्र लिख मदद करने की अपील करेंगे। इसकी घोषणा शव आने के बाद की जाएगी। ज्ञात हो कि अंदर थाना क्षेत्र के भरौली निवासी अनुज राय विगत छह वर्षों से सऊदी अरब के मेसर्स मोहम्मद इब्राहिम अल मॉर्टन एंड पार्टनर्स फॉर ट्रे¨डग एंड कांट्रे¨क्टग कंपनी में बतौर ड्राइवर का काम करते थे।
 

 
पत्नी सुप्रिया राय ने बताया कि विगत 17 फरवरी को कंपनी के ही एक कर्मचारी उनके पति के मोबाइल से रात में कॉल कर उनकी हत्या की सूचना दी थी, जिसके बाद से ही पत्नी सुप्रिया एवं अनुज राय का पूरा परिवार शव को स्वदेश लाने के लिए दो माह से निरंतर प्रयासरत है, लेकिन अभी तक शव स्वदेश नहीं आया है।


Like it? Share with your friends!

0
user

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *