0
0 0
Read Time:4 Minute, 22 Second

दिल्ली के लोग जल्द ही नाइट टूरिज्म का आनंद ले सकेंगे। इसके लिए कहीं पहाड़ों पर जाने की जरूरत नहीं है, बल्कि आप दिल्ली में ही कुछ किलोमीटर की दूरी पर परिवार के साथ जाकर खुले वातावरण में प्रकृति की गोद में रात्रि तक बिता सकेंगे। दिल्ली सरकार ने इसके लिए पहल शुरू की है। यह सुविधा पश्चिमी दिल्ली में स्थित हरीतिमा एडवेंचर पार्क में शुरू की जाएगी। जहां एक साथ 12 परिवार रात में ठहर सकेंगे। इसके लिए 12 ब्लॉक बनाए गए हैं। इस सुविधा को शुरू करने के लिए यह काम सरकार निजी कंपनियों को सौंपने की योजना बना रही है। इस पार्क में बड़े स्तर पर हरियाली विकसित की गई है।

 

 

आउटिंग के लिए पश्चिम दिल्ली में एक नया एडवेंचर्स एडवेंचर पार्क बनाया गया है। नजफगढ़ के इलाके कांगनहेड़ी में दिल्ली पर्यटन एवं परिवहन विकास निगम (डीटीटीडीसी) ने हरीतिमा नाम से एडवेंचर पार्क बनाया है। इसके अलावा 2.77 एकड़ का एडवेंचर पार्क छावला में बनाया गया है। जिसमें से फिलहाल हरीतिमा एडवेंचर पार्क में जल्द ही नाइट टूरिज्म शुरू करने की योजना है। इसके लिए तैयारी की जा रही है। दिल्ली सरकार इसे ऐसी किसी कंपनी को देने की तैयारी में जो इसका संचालन करे। इसके लिए डीटीटीडीसी टेंडर जारी करने की तैयारी में है।

 

 

स्वच्छ पर्यावरण और हरियाली को ध्यान में रखते हुए बनाए गए इस एडवेंचर पार्क में एडवेंचर्स स्पॉट कॉम्पलैक्स, क्लब, और मुंबई मचान आदि सुविधाएं उपलब्ध हैं। यह ऐसा एडवेंचर पार्क है जहां कैंप में प्राकृतिक वातावरण देने की कोशिश की गई है। नाइट टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए यहां कैंप लगाने के लिए 12 ब्लॉक बनाए गए हैं। यहां आने वाले पर्यटकों को अपने साथ खाने-पीने व अन्य सामान लाने की भी पूरी छूट होगी। कुल 11 एकड़ में फैले इस एडवेंचर पार्क में 1.5 किलोमीटर का साइकिल ट्रैक, बोट हाउस, रेस्टोरेंट, क्राफ्ट शॉपिंग, झील, ओपन एयर थिएटर, चिल्ड्रन पार्क, बैडमिंटन कोर्ट आदि मौजूद हैं।

 

 

आगे वाले समय में नाले के पानी का भी होगा समाधान

पार्क के बगल से ही नजफगढ़ ड्रेन के नाम से बड़ा नाला बह रहा है। जिससे कुछ समस्या आ रही है। इस नाले के पानी को शुद्ध किए जाने की दिल्ली सरकार की योजना है। जिससे आने वाले समय में पानी में बदबू की समस्या नहीं रहेगी।

 

 

लैंडयूज बदलने के लिए डीडीए को लिखा पत्र

इस पार्क का लैंडयूज बदलने के लिए डीटीटीडीसी ने डीडीए को पत्र लिखा है। जिससे यहां पर कैंपों के बनाए गए 12 ब्लाकों में कुछ निर्माण कराया जा सके। डीटीटीडीसी का मानना है कि नाइट टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए सभी ब्लाकों में थोड़ा बहुत निर्माण कराया जाना जरूरी है। अभी इन सभी ब्लाकों के साथ स्नानघर व शौचालय बने हैं। अभी रात में ठहरने के लिए सभी 12 ब्लाकों में यहां पर टेंट लगाए जा सकते हैं। एक बार में 12 परिवार यहां ठहर सकते हैं। मगर लोगों के शहरी जीवन यापन को देखते हुए इन ब्लाकाें में अस्थायी निर्माण की भी जरूरत महसूस की जा रही है।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Like it? Share with your friends!

0
Digital Desk

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *