94 साल के ये बुजुर्ग नहीं है कोई आम इंसान, रहे हैं 5 बार सांसद और 4 बार MLA, की है 58 शादियां!

1 min


0

सामने तस्वीर में नंगे बदन दिख रहे एक वृद्ध आदमी देखने में भले ही आम लग रहे हैं लेकिन ये बहुत ही खास आदमी है. बिहार-झारखंड से लेकर दिल्ली तक इनका रुतबा रहा है. बता दें कि ये बार सांसद और 4 बार विधायक रहे हैं. इतना ही नहीं इन्होंने 58 शादियां भी की है. जिसको लेकर इन्हें और भी जाना जाता है. इनका नाम बागुन सुम्ब्रई है. जो 1967 से 5 बार झारखंड के चाईबासा से सांसद और 4 बार विधायक रहे है.

ये बहुत सादगी से रहने वाले नेता है. अभी भी ये दो कमरों के मकान में अपनी जिन्दगी गुजारते हैं. 94 वर्ष के बागुन सुम्ब्रई के बारे में यह भी कहा जाता है कि सर्दी हो गर्मी हो या बरसात, वे सिर्फ एक एक धोती लपेटकर ही रहा करते हैं.

58 शादियां करने वाले बागुन मौजूदा समय में अपनी कई बीवियों के नाम तक भूल चुके हैं. इनकी पहली शादी 1942 में हुई थी. फिलहाल बागुन कई बेटे-बेटियों के पिता और पोते-पोतियों के दादा है. बागुन आदिवासी समुदाय से आते हैं, जहां एक से ज्यादा पत्नियां रखने पर कोई रोक नहीं है. बागुन 16,108 शादियां करने वाले भगवान कृष्ण को प्रेरणा का स्रोत मानते हैं. उनके मुताबिक, उन्होंने भी कृष्ण की तरह वंचित-शोषित महिलाओं की मदद करने के लिए उन्हें अपने साथ रखा.

पूर्व सांसद सुम्ब्रुई ने अपनी कई शादियों को लेकर यह बताया कि उन्हें किसी लड़कियों के पीछे भागने की जरूरत नहीं पड़ी. वे खुद उनकी ओर अट्रैक्ट हो रही थीं. उन्होंने कहा, “मैं क्या कर सकता था? मैं उन्हें निराश नहीं कर सकता था, जो मुझसे शादी करना चाहती थीं.”

उन्होंने यह भी माना कि सांसद चुने जाने के बाद ज्यादातर आदिवासी महिलाओं ने उनसे शादी की. उनमें से एक उनकी बेटी कि क्लासमेट रह चुकी अनीता कुमारी भी हैं. कहा जाता है कि पूर्व सांसद बागुन की पहली पत्नी की बेटी और अनीता कुमारी दोनों क्लासमेट थीं.

अनीता स्कूल में टीचर रह चुकीं है, उनका यह कहना है कि बागुन बाबू हमेशा एजुकेशन को प्रमोट करते रहते थे. यही वजह थी कि उन्होंने अपने गुरु और गाइड से शादी कर ली. जबकि उन्होंने बागुन के दूसरी शादियों को लेकर यह कहना है कि वो उनकी चौथी पत्नी हैं और उनके अलावा कोई नहीं है. हालांकि उन्होंने यह भी कहा है कि कई महिलाएं बागुन की पत्नियां होने का दावा करते हैं. जबकि उनसे जुड़े लोग भी 58 पत्नियां की बात को सही ठहराते हैं.


Like it? Share with your friends!

0
Digital Desk

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *