70 मिनट तक करते रहे बचाने की कोशिश, फिर अचानक रो पड़े डॉक्टर

1 min


0

देश की विदेश मंत्री रहीं सुषमा स्वराज का मंगलवार रात राजधानी दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में सुषमा ने आखिरी सांस ली. 69 वर्षीय सुषमा का देहांत हार्ट अटैक की वजह से हुआ. बता दें मंगलवार को घबराहट की शिकायत होने पर उन्हें एम्स लाया गया. जहां रात 9.26 बजे उन्हें भर्ती किया गया.
इसके बाद डॉक्टरों की एक टीम उनके इलाज में लग गई. हालांकि उन्हें बचाया नहीं जा सका. निधन होने के बाद सुषमा के इलाज में लगी टीम के दो जूनियर डॉक्टर रो पड़े. अमर उजाला की एक रिपोर्ट के अनुसार करीब 70 मिनट तक सुषमा को सीपीआर और हार्ट को पंप करने के साथ-साथ शॉक ट्रीटमेंट भी दिया गया लेकिन उनकी धड़कन वापस नहीं लौटी. इसके बाद सुषमा को वेंटीलेटर सपोर्ट दिया गया. इसके बाद सुषमा के शरीर में जान नहीं बची.
रिपोर्ट के अनुसार नाम न प्रकाशित करने की शर्त पर डॉक्टरों ने जानकारी दी कि 10.50 मिनट सुषमा ने आखिरी सांस ली. डॉक्टरों के अनुसार सुषमा के एम्स पहुंचने से पहले ही डॉक्टरों की अलर्ट पर थी. एंबुलेंस से उन्हें तुरंत इमरजेंसी ले जाया गया. यहां दो डॉक्टर सीपीआर के साथ मौजूद थे.
वहां मौजूद डॉक्टरों को कुछ देर में ही समझ गए कि सुषमा को कार्डिएक अरेस्ट हुआ है. शुरूआती 10-15 मिनट में जब सीपीआर से काम नहीं चला तो उन्हें शॉक दिया गया. जब उसे भी सुषमा के शरीर ने कोई जवाब नहीं दिया तो फिर हार्ट को पंप करने का फैसला लिया गया.
हार्ट डिपार्टमेंट के डॉक्टर वीके बहल और उनकी पूरी टीम सुषमा को हर्ट पंप देने में जुट गई. वहीं डॉक्टर प्रवीण अग्रवाल की टीम ने वेंटीलेटर तैयार किया. पंप से भी काम न होने पाने के बाद उन्हें वेंटीलेटर पर रखा गया लेकिन तब तक सुषमा के शरीर ने ही उनका साथ छोड़ दिया था.
सुषमा के निधन के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारतीय राजनीति में एक शानदार अध्याय समाप्त हो गया. भारत एक उल्लेखनीय नेता के निधन पर शोकाकुल, जिन्होंने अपना जीवन सार्वजनिक सेवा और गरीबों के जीवन को समर्पित किया. सुषमा स्वराज जी करोड़ों लोगों की प्रेरणा का स्रोत थीं. सुषमा के अस्पताल में भर्ती होने के बाद हर्षवर्धन, राजनाथ सिंह, स्मृति ईरानी प्रकाश जावड़ेकर सहित कई वरिष्ठ मंत्री एम्स पहुंचे थे.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि वे एक अत्यंत मूल्यवान सहयोगी के आकस्मिक निधन से गहरे सदमे और पीड़ा में हैं. विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा, श्रीमती सुषमा स्वराज के निधन की सूचना से गहरा सदमा लगा. इस खबर को स्वीकार करना मुश्किल है. पूरा देश शोक में डूबा हुआ है.
कांग्रेस ने उनके निधन पर शोक व्यक्त किया. पार्टी ने कहा, हमें श्रीमती सुषमा स्वराज के असामयिक निधन के बारे में सुनकर दुख हुआ. परिवार और प्रियजनों के प्रति हमारी संवेदना. कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्विटर पर कहा, मैं सुषमा स्वराज जी के निधन के बारे में सुनकर स्तब्ध हूं, जो एक असाधारण राजनीतिक नेता, एक प्रतिभाशाली नेता और एक असाधारण सांसद हैं. दुख की इस घड़ी में उनके परिवार के प्रति मेरी संवेदना. उनकी आत्मा को शांति मिले. शांति. ओम शांति.


Like it? Share with your friends!

0
Digital Desk

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: