Saturday, November 27

हवाई यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए बड़ी खुशखबरी, अब नहीं लगेगा यह चार्ज, किराये और आधार को लेकर भी लिया गया बड़ा फैसला

हवाई जहाजों से यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए एक बड़ी खुशखबरी सामने आई है. बता दें कि केंद्र सरकर ने फ्लाइट टिकट कैंसिलेशन चार्ज, आधार कार्ड अनिवार्यता और टिकट के दामों को सस्ते करने को लेकर एक बड़ा फैसला लिया है. पहले फैसले के तहत फ्लाइट टिकट कैंसिल कराने पर यात्रियों को कैंसिलेशन चार्ज नहीं चुकाना होगा. लेकिन यात्रियों को इसके लिए फ्लाइट छूटने से 96 घंटे पहले तक टिकट कैंसिल करानी होगी. एविएशन मंत्रालय ने दुनिया की सबसे बड़ी डिजिटल एक्सपीरियंस योजना डिजियात्रा शुरू की है. इस योजना के तहत सरकार ने टिकट कैंसिलेशन चार्ज खत्म करने का ऐलान किया है.

नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री जयंत सिन्हा ने कहा डिजियात्रा से यात्रियों को एयरपोर्ट पर नया अनुभव मिलेगा. जयंत सिन्हा के मुताबिक, कैंसिलेशन चार्ज के संबंध में सभी एयरलाइंस के साथ चर्चा कर ली गई है. सब सहमत हैं. खास बात यह है कि इस योजना के लिए यात्रियों को आधार देना अनिवार्य नहीं होगा. यात्रियों को एयरपोर्ट में एंट्री के लिए अल्टरनेट चैनल उपलब्ध कराए जाएंगे.

हवाई यात्रा करने वाले लोगों के लिए एक और खुशखबरी है. डिजियात्रा योजना के तहत टिकट किराए में भी कटौती होगी. एविशन मंत्रालय के मुताबिक, डिजियात्रा के तहत टिकट के दाम कम किए जाएंगे. डिजियात्रा से एयरलाइंस के पास लगेज और बोर्डिंग फीस को कम करने की गुंजाइश रहेगी. इससे उन्हें टिकट के दाम घटाने में मदद मिलेगी.

नागरिक उड्डयन मंत्रालय जल्द ही एयर सेवा ऐप को दोबारा शुरू करने में जुट जाती है. एयर सेवा ऐप पर यात्रियों को तमाम जानकारी उपलब्ध कराई जाएगी. मंत्रालय ने इसके साथ ही पैसेंजर सिटिजन चार्टर फोरम को 1 महीने में नोटिफाई करने का ऐलान भी किया. फिलहाल, फोरम को कंसल्टेशन के लिए रखा जाएगा. एक महीने के बाद फोरम का फाइनल ड्राफ्ट तैयार होगा. इसके बाद इसे नोटिफाई किया जाएगा. इसके साथ ही हवाई यात्रा के दौरान मोबाइल फोन का इस्तेमाल करने के साथ साथ कॉल या डाटा का इस्तेमाल करने की भी छुट दी गई है. मालूम हो कि दूरसंचार आयोग ने हाल ही में उड़ान के दौरान मोबाइल सेवा ‘कनेक्टिविटी’ को सशर्त मंजूरी दी थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: