महाराष्ट्र के गुटाला वाइल्डलाइफ सैंक्चुअरी में 81 वर्षों बाद दिखा टाइगर

1 min


0

औरंगाबाद: मुम्बई के गुआतला औतरामघाट वाइल्डलाइफ सैंक्चुअरी में 1940 के बाद पहली बार एक बाघ देखा गया है। अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया कि यह बाघ शिकार की तलाश में यहां से लगभग 330 किलोमीटर दूर टीपेश्वर सैंक्चुअरी से आया है। डिविज़नल वनाधिकारी विजय सतपुते ने कहा कि पहले बाघ इस क्षेत्र के मूल निवासी हुआ करते थे, लेकिन 1940 के बाद से वे गायब हो गए, हालांकि वर्तमान संख्या में तेंदुए 25 की संख्या में पनप रहे हैं।

यह बाघ पूरी तरह से विकसित नर है। यह11-12 मार्च के आसपास सैंक्चुअरी में आया था और 15 मार्च को एक वन कैमरे में देखा गया था। बाघ की स्ट्राइप्स से पता चलता है कि वह टीपेश्वर क्षेत्र का है। विजय सतपुते ने बताया कि जिस रास्ते से बाघ पहुंचा था, उसकी पुष्टि अभी तक नहीं हुई है।

महाराष्ट्र राज्य वन्यजीव बोर्ड के सदस्य यादव ततार पाटिल ने कहा कि बाघ पंढरकवाड़ा, उमरखेड़, तेलंगाना के कुछ हिस्से, अकोला, ज्ञानगंगा (बुलढाणा), और अजंता पर्वत श्रृंखला से गौतला तक पहुँचा।

बाघ की यात्रा 2,000 किलोमीटर के करीब रही होगी। इस तरह के जगहों को महत्वपूर्ण बाघ निवास के रूप में घोषित किया जाना चाहिए और ऐसे मार्गों की सुरक्षा के लिए सर्वश्रेष्ठ वन्यजीव प्रबंधन प्रथाओं को लागू किया जाना चाहिए।


Like it? Share with your friends!

0
Shivani saini

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: