0

मिस्र के मीडिया चैनलों की रिपोर्टों में कहा गया है की “सऊदी अरब ने वैटिकन के साथ देश में क्रिस्चियन (इसाई) नागरिकों के लिए चर्च बनाने के लिए समझौते पर हस्ताक्षर कर दिए हैं.”

जीन-लुई टॉरन की यात्रा के दौरान हुआ समझौता 

अल जजीरा की खबरों के अनुसार बुधवार को ऑनलाइन समाचार पत्र मिस्र इंडिपेंडेंट ने दावा किया है की “अप्रैल में देश की यात्रा के दौरान वेटिकन में अंतर-धार्मिक वार्ता के लिए पोंटिफिकल काउंसिल जीन-लुई टॉरन की यात्रा के दौरान इस समझौते पर हस्ताक्षर किए गए थे.”
अल जजीरा की खबरों के अनुसार वेटिकन न्यूज के साथ एक साक्षात्कार में, टॉरन ने पुष्टि की थी कि एक घोषणा पर हस्ताक्षर किए गए हैं लेकिन उन्होंने यह नहीं बताया था की किस समझौते पर हस्ताक्षर किये गए हैं.”
टौरन ने सऊदी यात्रा के दौरान राजा सलमान बिन अब्दुलजाज अल सऊद सहित उच्च स्तरीय अधिकारियों से मुलाकात की थी.

source-twitter
अल जजीरा की खबरों के अनुसार टोरेन ने कहा था की “मेरी बैठक के दौरान, मैंने इस बिंदु पर बहुत जोर दिया कि स्कूलों में ईसाई और गैर-मुस्लिम अच्छी तरह से बोली जाती हैं और उन्हें कभी भी दूसरे श्रेणी के नागरिक नहीं माना जाता है,” .

नहीं है सऊदी अरब में चर्च 

अल जजीरा की खबरों के अनुसार सऊदी अरब में वर्तमान में इस्लाम के अलावा अन्य धर्मों के लिए किसी भी प्रकार का अभ्यास के लिए मना है. लेकिन अगर मिस्र के मीडिया का दावा सही निकलता है तो यह देश में पहली बार होगा की देश में चर्च बनाया जाएगा.

source-twitter

वेटिकन से हालाँकि कोई पुष्टि नहीं हुई थी. मेलऑनलाइन ने टिप्पणी के लिए वेटिकन और सऊदी अधिकारियों से संपर्क किया है लेकिन उन्होंने अभी तक जवाब नहीं दिया है.सऊदी अरब में फिलहाल कोई चर्च नहीं है और यह एक मात्र ऐसा देश है क्षेत्र में जहां पर कोई चर्च नहीं है


Like it? Share with your friends!

0
user

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: