Wednesday, December 1

बिहार में गाड़ियों के ऊपर TAX हुआ 3 गुना, मोटरसाइकल, कार, टेम्पो सबका रेट हुआ जारी

अगर आप भी चला रहे हैं 15 साल पुरानी गाड़ी तो हो जाईये सावधान क्योंकि अब बिहार में तीन गुना तक बढ़ सकता है पुरानी गाड़ियों के लिए फिटनेस टेस्ट शुल्क। जी हां, बिल्कुल सही पढ़ रहे हैं आप।

मालूम हो कि पुरानी गाड़‍ियों को सड़कों से हटाने के लिए केंद्र सरकार के द्वारा नई स्क्रैप पालिसी लायी गयी है।

लोगों को पुराने वाहन रखने से हतोत्‍साहित करने के मकसद से अब केंद्र सरकार के बाद बिहार सरकार भी केंद्र सरकार की नई स्क्रैप पालिसी जल्द ही बिहार में लागू करने वाली है। परिवहन विभाग के अधिकारी इससे जुड़ा प्रस्ताव तैयार कर रहे हैं। इसके लागू होने के बाद नई गाड़‍ियों की तुलना में 15 साल पुरानी गाड़‍ियों का फिटनेस प्रमाण पत्र लेने और रजिस्ट्रेशन कराने में वाहन मालिकों को अधिक पैसे खर्च करने होंगे।

 

स्क्रैप पालिसी के बाद गाड़‍ियों का रजिस्ट्रेशन शुल्क व फिटनेस दर तय किया गया है जो कुछ इस प्रकार है।

■ अगर कोई पुरानी मोटरसाइकिल को स्क्रैप कर नई गाड़ी लेगा तो मैनुअल चलने वाली मोटरसाइकिल के फिटनेस प्रमाण पत्र के लिए मात्र 400 तो सेल्फ वाली मोटरसाइकिल के लिए 500 रुपये देने होंगे। वहीं अगर कोई 15 साल पुरानी मोटरसाइकिल चलाएगा तो उसे फिटनेस प्रमाण पत्र के लिए 1000 रुपये देने होंगे।

■ तीन पहिया वाले या हल्के मोटरयान वाली गाड़ी को स्क्रैप करवाकर अगर कोई नई गाड़ी खरीदेगा तो उसे मैनुअल गाड़ी में मात्र 800 वहीं सेल्फ वाली गाडिय़ों के फिटनेस मद में 1000 रुपये देने होंगे।

■ कोई 15 साल पुरानी तीन पहिया गाड़ी चलाना चाहेगा तो उसे फिटनेस के लिए तीन गुना अधिक 3000 रुपये देने होंगे। इसी तरह 15 साल पुराने हल्के मोटर यान वाले चालकों को फिटनेस प्रमाण पत्र के मद में 7500 रुपये खर्च करने होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: