प्रियंका मारी गयी, बिहार में अब एक भी आवाज़ नहीं, क्योंकि ये आपकी बहन या बेटी नही हैं न? बिटिया हम शर्मिंदा हैं, तेरे क़ातिल अभी ज़िंदा हैं


0

पुरे देश में आज बेटियों के नाम पर राजनीति की जा रही है. बेटियों को आगे बढ़ाने के लिए सरकारों द्वारा नए दावे किये जा रहे हैं. बेटियों को हर तरह की आजादी दी जाने की बात की जा रही है जितना के बेटों को मिलता है. लेकिन जब एक बेटी आज की समाज के छोटी और घटिया सोच को सामने लाकर उसे चुनौती देने पर तुल जाती है तो उसकी आवाज को हमेशा के लिए बंद कर दिया है.

जो दो सवाल खड़ते हैं, एक तो यह कि क्या समाज के कुरीतियों को खत्म करना गुनाह है? और दूसरा सवाल ये कि हमारा कानून कहां सो रहा है, यहां खुलेआम किसी की भी हत्या कर दी जा रही है.

बता दें कि भागलपुर DIG रेंज में एक जबरदस्त मर्डर की खबर ने तहलका मचा दिया है. इस बार जिसकी हत्या हुई है वो एक युवती हैं, पर कोई आम लड़की नहीं हैं. वो हजारों महिलाओं के दिलों पर अपने कार्यों के वजह से राज करती थी.

दकियानूसी और रूढ़ीवादी विचारधारा वाले विकट पुरषों एक बीच महिला उसमें अपना सहारा ढूंढती थी. मारी जाने वाली युवती महिलाओं की आवाज थी. मृतिका का नाम प्रियंका था. वो महिला और उसके अधिकारों के लिये लड़ने वाली लड़की थी. जिसकी बेगुसराय में हत्या कर दी गयी है. वो भी सिर्फ महिला अधिकार की लड़ाई निजी तौर पर लड़ने के कसूर में.

उसे पुरुषसत्तावादी इस व्यवस्था ने मार दिया. समाज स्त्रियों को बुर्के और घूंघट में घोंट कर मार डालना चाहता है. जब कोई स्त्री आजादी की मांग उठाती है तो कभी उसके चरित्र, कभी शरीर और कभी उसके जीवन को निशाना बनाया जाता है.

कब तक स्त्रियां मारी जाती रहेंगी. आखिर कब तक? क्या अपने अधिकार में आवाज उठाने वालों का यही हश्र होगा? फिर क्यों सरकार बेटी पढाओ बेटी बचाओ जैसे नारों को दिन रात चरितार्थ करने में फिजुल का लगी हुई है. यह आप भी महसूस कर सकते हैं कि नारों और दावों को हकीकत से कुछ लेना देना नहीं हैं. ये सिर्फ और सिर्फ ढ़कोसला है.

बता दें कि प्रियंका ने माता-पिता के खिलाफ जाकर अपने ही गांव के अशोक सिंह के बेटे कुणाल कुमार से अगस्त 2017 में रांची के पहाड़ी मंदिर में जाकर शादी की थी. दिसंबर 2017 तक प्रियंका अपने पति कुणाल के साथ रांची और दिल्ली में रही. इस बीच प्रियंका को अचानक कुणाल ने डराना और धमकाना शुरू कर दिया. उसे ससुराल वाले भी रखने को तैयार नही थे. प्रियंका को कुणाल की दिसंबर में ही दूसरी शादी की सूचना मिली.

सूचना पर प्रियंका बेगूसराय पहुंची और मुफस्सिल थाना में दहेज प्रताड़ना, हत्या की धमकी देने व यौन शोषण का आरोप लगाते हुये मामला दर्ज कराया. नौलखा मंदिर के खेत में रविवार की शाम खेत जोतने वाले राजकुमार को अपने खेत की की गई नई खुदाई देखी. सोमवार की सुबह उसके पड़ोसी की ई-रिक्शा की बैट्री चोरी होने पास के जमीन में खुदाई की गई, इस दौरान ही प्रियंका की लाश जमीन में गड़ी मिली. फिर लाश होने का अंदेशा होने पर पुलिस को मामले की जानकारी दी गई.


Like it? Share with your friends!

0
admin

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *