0

खाड़ी समंदर में अभी बड़ी दुर्घटना घट गयी है। एक बड़ा नाव जिसपर कई लोग सवार थे वो बीच समुद्र में पलट गया। इस हादसे में लगभग 50 लोगों के डूब जाने की खबर है। जनकारी के अनुसार नाव मानव तस्करों की थी जो यमन जा रही थी। नाव पलटने से बुधवार को 50 लोगों की डूबकर मौत हो गयी और 16 लोग लापता हो गये। मृतको के बारे के यह अनुमान लगाया जा रहा है कि उनकी संख्या 50 से अधिक है। संयुक्त राष्ट्र की प्रवासन एंजेसी ने यह जानकारी दी। सोमालिया के बोसासो द्वीप से मानव तस्करों की नाव में 100 प्रवासी सवार हुए जिसमें से 83 पुरुष और 17 महिलाएं थीं। ये सभी प्रवासी काम की तलाश में यमन और खाड़ी देश जा रहे थे।

अंतरराष्ट्रीय प्रवासन संगठन (आईओएम) के निर्देशक मोहम्मद अब्दिकर ने कहा कि यह घटना शर्मनाक है। उन्होंने अपने बयान में कहा कि हर महीने 7000 गरीब अप्रवासी यह खतरनाक यात्रा करते हैं। पिछले वर्ष एक लाख लोगों ने यह यात्रा की थी। यात्रा के दौरान उनको विकट और भयावह परिस्थितियों से गुजराना पड़ता है। इस पर रोक लगनी चाहिए। यह घटना संगठन द्वारा 101 इथोपियाई लोगों को यमन छोडऩे में मदद करने के एक दिन बाद घटी है। इनमें 51 महिलाएं और 33 बच्चे शामिल थे। ये सभी यमन में फंसे हुए थे और हिरासत में फंसे 300 अप्रवासियों में से सर्वाधिक असुरक्षित थे।

संगठन के बयान के अनुसार यमन आने-जाने वाले अप्रवासी मजदूरों को मानव तस्करों और अन्य अपराधियों के हाथों प्रताड़ति होना पड़ता है। इनका शारीरिक और यौन शोषण किया जाता है। इनको यातनाएं दी जाती है और वसूली की जाती है। जबरन काम करवाया जाता है। इस दौरान इनकी मौत भी हो जाती है। जबकि कुछ अप्रवासी कामगारों से युद्ध भी करवाया जाता है, जो यदि घायल हो जाते हैं तो उन्हें वैसे ही छोड़ दिया जाता है जिसमें उसकी मौत हो जाती है। इस तरह उनपर कई तरह की यातनाएं की जा जाती है जो असहनीय होती हैं।


Like it? Share with your friends!

0
Digital Desk

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: