कुख्यात गैंगस्टर रंजीत ने कुबूला- RJD MLA हैं हमारे हथियार सप्लायर

1 min


0

 बुधवार की रात पुलिस की विशेष टीम ने औरंगाबाद जिले से दबोचे गए एक कुख्यात अपराधी को विदेशी पिस्तौल के साथ गिरफ्तार किया। गिरफ्तार अपराधी ने बड़ा खुलासा करते हुए बताया कि राजद के एक विधायक हमारे गैंग को हथियारों की आपूर्ति करवाते थे।
विशेष टीम का संचालन कर रहे पटना एसएसपी मनु महाराज ने बताया कि कुख्यात रंजीत चौधरी को जो भोजपुर जिले के उदवंत नगर का रहने वाला है उसे हमने औरंगाबादा के क्लब रोड से गिरफ्तार किया है और उसके पास से विदेशी पिस्तौल बरेटा बरामद किया गया है।
भोजपुर के राजद विधायक हैं हथियार के सप्लायर
पटना के एसएसपी मनु महाराज ने गुरुवार को कहा कि 35 वर्षीय रंजीत चौधरी ने अपने गिरोह के इस्तेमाल के लिए हथियारों की सप्लाई करने वाले के बारे में बताया कि भोजपुर के संदेश से विधायक अरुण यादव हमें हथियारों की सप्लाई करते थे। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।
मनु महाराज ने बताया कि जब विधायक के फोन नंबर पर फोन किया गया तो उनका फोन रिसीव नहीं किया गया। इसके साथ ही दो एसएमएस भी उनके दो सेलफोन नंबरों पर भी भेजा गया था, लेकिन इसमें कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली।
 
उसके बाद पुलिस की विशेष टीम ने  रंजीत चौधरी की निशानदेही पर गुरुवार को भोजपुर के उदवंतनगर थाना क्षेत्र से राजद विधायक अरुण कुमार यादव के रिश्तेदार राज नारायण सिंह को गिरफ्तार कर लिया। उसके घर से 3.15 बोर का गैर लाइसेंसी रायफल बरामद हुआ है।
 

रंजीत ने कबूल किया- उसके पास दर्जनभर एके-47 है
रंजीत ने कबूल किया है कि उसके पास दर्जनभर एके-47 हैं, जिसे उसने कुछ सफेदपोश लोगों को सौंप दिया है। इनमें से एक हथियार विधायक के समधी अवधेश यादव के पास भी है। इसके बाद पुलिस ने उसके घर की छापेमारी की, जहां से रेगुलर रायफल बरामद हुई। रायफल के साथ अवधेश के भाई राज नारायण को गिरफ्तार किया गया।
रंजीत पर विभिन्न थानों में एक दर्जन से अधिक संगीन कांड दर्ज हैं। उसने 16 दिसंबर 2013 को बेलाउर पंचायत की मुखिया की गर्भावस्था में गोली मारकर हत्या कर दी थी। इसके अलावा आरा के नवादा थाना क्षेत्र निवासी डॉ. उदयकांत चौधरी से रंगदारी की मांग की थी। रकम नहीं मिलने पर जान से मारने की नीयत से फायङ्क्षरग की, जिसमें वह बाल-बाल बच गए।
इस घटना के बाद रंजीत ने डॉक्टर से रंगदारी वसूल ली। झारखंड के जमशेदपुर में जुबली पार्क के पास नामी ठेकेदार रामशक्ल यादव को रंजीत ने मार गिराया था। एसएसपी मनु महाराज ने बताया कि एके-47 और गिरोह की सदस्यों की तलाश में छापेमारी चल रही है।
मिली थी छह लाख की पिस्टल
रंजीत की गिरफ्तारी के लिए पटना पुलिस की टीम ने औरंगाबाद जिले के सिंदुआर पंचायत के मुखिया पिंटू शर्मा के घर छापेमारी की थी। उसके पास से यूएसए की बेरेटा कंपनी की नाइन एमएम पिस्टल बरामद हुई, जिसकी कीमत लगभग छह लाख रुपये बताई जा रही है। इसके अलावा 3.15 बोर की रेगुलर रायफल, बिंडोलिया, दो नाली बंदूक और विभिन्न बोर के 53 कारतूस बरामद हुए।
सुपारी लेकर करता था हत्याएं
रंजीत गिरोह का मुख्य पेशा रंगदारी वसूलना है। लेवी नहीं मिलने पर वे गोलीबारी करते थे। इसके बाद गिरोह ने सुपारी लेकर हत्याएं करना शुरू कर दिया। गिरोह का सरगना रंजीत कई बार जेल जा चुका है। कई जेलों में उसके गुर्गे बंद हैं, जो अंदर रहकर ही गिरोह को सहयोग देते हैं।


Like it? Share with your friends!

0
Digital Desk

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: