0
0 0
Read Time:2 Minute, 59 Second

जापान में जेबी तूफान ने भारी तबाही मचाई है। यह जापान में 25 साल का सबसे शक्तिशाली तूफान है। मंगलवार से अब तक मरने वालों की तादाद 10 हो गई है। 12 लाख लोगों को सुरक्षित जगहों पर जाने को कहा गया है। कंसाई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा के रनवे पर पानी भरने से उड़ानें बंद हैं। वहीं, इसे जोड़ने वाला पुल टूटने से करीब 3000 यात्री फंस गए हैं।

सबसे पहले तूफान शुकोकु और उसके बाद कोबे और होन्शु शहर पहुंचा। इस तूफान से रोड, ट्रेन और हवाई, तीनों ही यातायात व्यवस्था प्रभावित हुई हैं। देश में करीब 800 से ज्यादा उड़ानों को मंगलवार को रद्द करना पड़ा। 20 प्रांतों में 16 हजार लोगों ने मंगलवार की रात राहत शिविरों में गुजारी।

कंसाई इंटरनेशनल एयरपोर्ट से संपर्क टूटा:  कंसाई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा के रनवे पर पानी भरने से उड़ाने बंद हैं। कंसाई में तेज हवाओं से मकानों की छतें उड़ गईं। पुलों पर खड़े ट्रक पलट गए। ओसाका की खाड़ी में कंसाई इंटरनेशनल एयरपोर्ट को जोड़ने वाले पुल से एक 2,591 टन वजनी टैंकर टकरा गया। पुल को नुकसान पहुंचा है। इससे कंसाई एयरपोर्ट मुख्य द्वीप से कट गया। इतना ही नही, खाड़ी देश जैसे UAE, बहरीन, साउदी, क़तर कुवैत, ओमान, यमन, ईरान, इराक़ से इस जगह के लिए अधिकारिक घोसना कर फ़्लाइट बंद करने का आदेश जारी किया चुका हैं, विमांपत्तन आयोग के द्वारा, और साफ़ साफ़ कहा गया हैं की आगलें आदेश तक सेवाएँ बंद रहेंगीं.

 
नौकाओं से निकाला जाएगा: अधिकारियों ने बताया कि यहां फंसे यात्रियों को नौकाओं और बसों के जरिए समीप के कोबे हवाईअड्डा ले जाया जा रहा है। यहां से रोजाना 400 विमान उड़ान भरते हैं। कंसाई एयरपोर्ट के रनवे पर पानी भरने से उड़ाने बंद हैं।

बाढ़ और मडस्लाइड की चेतावनी: मौसम विभाग ने पश्चिमी और पूर्वोत्तर इलाके में भारी बारिश, आंधी, मडस्लाइड की चेतावनी जारी की है। मंगलवार को जब जेबी तूफान आया तब हवाओं की रफ्तार 216 किमी प्रति घंटा थी। इसके बाद धीरे-धीरे कम होती चली गई। मध्य जापान में 500 मिमी बारिश हुई।

About Post Author

user

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Like it? Share with your friends!

0
user

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *