Saturday, October 16

अभी अभी NDA में खींचतान के बीच जदयू ने उपचुनाव को लेकर किया बड़ा ऐलान

बिहार में 3 सीटों पर होने वाले उपचुनाव से पहले NDA के घटक दलों ने बीच सीटों को लेकर मारामारी शुरू हहो गयी है. बिहार NDA घटक दलों में बीजेपी सहित तीन पार्टियां ने उपचुनाव में अपनी दवादारी दिखाई है. इस बीत चुनाव लड़ने को लेकर जारी खींचतान के बीच जदयू ने बड़ा ऐलान किया है. जदयू के प्रदेश अध्यक्ष विशिष्ठ नारायण जानकारी देते हुए कहा कि JDU बिहार में उपचुनाव नहीं लड़ेगी. 3 सीटों में से किसी पर भी JDU नहीं लड़ेगी चुनाव.

बता दें कि बिहार में लोकसभा और विधानसभा की उपचुनाव के ऐलान के साथ NDA फुट के साफ संकेत मिल गये हैं.एक सीट के लिए बीजेपी और आरएलएसपी आमने सामने आ गई है. दोनों में कोई भी दल पीछे हटने को तैयार नहीं हैं. इसलिए NDA विवाद होने तय मानां जा रहा है. बता दें कि जहानाबाद की सीट पर बीजेपी और आरएलएसपी चुनाव लड़ने के लिए अड़ गई है. जबकि NDA में शामिल जहानाबाद सांसद अरूण कुमार ने यह कहा है कि जहानाबाद सीट पर JDU चुनाव लड़े तो कोई एतराज नहीं
उपेन्द्र कुशवाहा गुट का दावा जायज नहीं है.

जहानाबाद विधानसभा से राजद प्रत्याशी की बात की जाये तो वहां से मुद्रिका सिंह यादव के बड़े बेटे सुदय यादव का प्रत्याशी बनना लगभग तय है. एनडीए में ही इस सीट को लेकर ज्यादा मारामारी है. लेकिन मिली जानकारी के मुताबिक आरएलएसपी के रामजतन सिन्हा की चर्चा जोरों पर है.

महागठबंधन में सीटों के तालमेल में लालू यादव ने जदयू के सिटिंग अभिराम शर्मा को बेटिकट कर मुंद्रिका सिंह यादव को चुनाव लड़वाया था. गत विधानसभा चुनाव में रालोसपा के प्रवीण सिंह लड़े थे. ऐसे में रालोसपा की तरफ से प्रवीण सिंह की भी दावेदारी प्रबल है. जहानाबाद के सांसद अरूण कुमार रालोसपा से अलग हो गए हैं, लेकिन एनडीए में ही हैं. ऐसे में उनके गुट की भी यहां से दावेदारी है. दूसरी बात ये है कि पूर्व मुख्यमंत्री और हम के अध्यक्ष जीतन राम मांझी का भी यह इलाका है.

चुनाव आयोग ने अररिया लोकसभा सीट के लिए होने वाले उपचुनाव की तारीख का ऐलान कर दिया है. चुनाव आयोग ने शुक्रवार को ऐलान किया कि 11 मार्च को मतदान होगा और 14 मार्च को वोटों की गिनती की जाएगी. 2014 के लोकसभा चुनाव में इस सीट से आरजेडी नेता मोहम्मद तस्लीमुद्दीन विजयी हुए थे. 17 सितंबर 2017 को तस्लीमुद्दीन का निधन हो गया था, जिसके चलते यह सीट खाली हो गई थी.

भभुआ और जहानाबाद में भी विधानसभा के लिए उपचुनाव 11 मार्च को वोटिंग और 14 मार्च को काउंटिंग होगी. भभुआ विधानसभा सीट बीजेपी विधायक आनंद भूषण पांडेय के निधन के चलते खाली हुई थी..वहीं, जहानाबाद सीट आरजेडी विधायक मुंद्रीका सिंह यादव के देहांत के चलते खाली हुई थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: