अभी अभी: आसाराम को जबरदस्त झटका, नाबालिग से रेप केस में दोषी करार, आज ही हो सकता है..!

1 min


0

आसाराम पर पॉक्सो यानी प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रेन फ्रॉम सेक्सुअल ऑफेंस एक्ट के तहत मुकदमा चला है. पीड़िता के वकील ने आसाराम को सख्त से सख्त सजा की मांग की है. जिन धाराओं में केस दर्ज किया गया है उनमें उम्रकैद तक की सजा का प्रावधान है.

नई दिल्ली: एक हजार 667 दिन से जोधपुर सेंट्रल जेल में बंद रेप के आरोपी कथावाचक आसाराम के लिए आज का दिन बेहद महत्वपूर्ण है. नाबालिग बच्ची से रेप के केस में आज राजस्थान के जोधपुर की अदालत फैसला सुनाने वाली है. अदालत के फैसले के बाद हालात राम रहीम के मामले की तरह ना हों, आसाराम के समर्थक कोई हिंसा ना करें इसलिए जोधपुर में सुरक्षा के जबरदस्त इंतजाम किए हैं. जोधपुर जेल के बाहर भी सुरक्षा बंदोबस्त बेहद कड़े हैं. सुबह साढ़े ग्यारह बजे तक जज मधुसूदन शर्मा की कोर्ट फैसला सुना सकती है. इस मामले में आसाराम के अलावा उसके सेवादार शिवा, बेहद करीबी शरतचंद्र, छिंदवाड़ा हॉस्टल की वॉर्डन शिल्पी और प्रकाश नाम शख्स भी आरोपी है. इस पर आरोप है कि इन्होंने लड़की को आसाराम तक पहुंचाने में मदद की.

आसाराम रेप केस में फैसला LIVE UPDATES:
10.40 AM: नाबालिग से रेप केस मेंपांच में से तीन लोगों को दोषी करार दिया गया है, इन दोषियों आसाराम शामि भी है. इसके अलावा शिव्पी और शरद भी दोषी करार दिए गए हैं. प्रकाश और शिवा को इस मामले में बरी कर दिया है. आसाराम को कितनी सजा होगी इस पर अब बहस होगी. जानकारी के मुताबिक आसाराम को पॉक्सो एक्ट में भी दोषी करार दिया गया है. इसलिए दस साल की सजा तो तय मानी जा रही है. जानकारों के मुताबिक आसाराम के वकील उनकी उम्र का हवाला देकर कम सजा की गुहार करेंगे.
10.29 AM: आसाराम को जोधपुर सेंट्रल बैरक नंबर दो से जेल में बने कोर्ट रूम में लाया गया है. कोर्ट में आने से पहले आसाराम ने 15 मिनट पूजा की, जिसकी वजह से कार्यवाही 15 मिनट लेट शुरू हुई. बात दें कि आरोपियों की लिस्ट में पहला नाम आसाराम का है. इसलिए पहले फैसला भी उनको लेकर ही सुनाया जाएगा.
10.06 AM: जेल के अंदर सुनवाई के लिए विशेष प्रबंध किए गए हैं. कोर्ट के अंदर जज और आरोपियों के अलावा केस से जुड़े सिर्फ 14 वकील और कोर्ट के स्टाफ को जाने की इजाजत दी गई है. सुरक्षा के इंतजाम इतने कड़े हैं कि जहां कोर्ट से लगी है उससे काफी दूरी पर सभी वकीलों और कोर्ट स्टाफ के फोन भी जमा करवा लिए गए हैं.
09.34 AM: जोधपुर कोर्ट के फैसले से पहले आसाराम के फॉलोअर अहमदाबाद में प्रार्थना करते हुए
09.14 AM: फैसला सुनाने वाले जज मधुसूदन शर्मा जोधपुर सेंट्रल जेल पहुंचे. सुबह 10.30 बजे तक फैसला आने की उम्मीद है. जज के साथ बड़ी संख्या गाड़ियां भी जेल के अंदर गई हैं. आसाराम के आरोपियों के वकील ने एबीपी न्यूज़ से कहा- हमें उम्मीद है फैसला अच्छा होगा.
09.07 AM: आसाराम रेप केस में फैसला सुनाने के लिए जज मधुसूदन शर्मा कोर्ट से जेल के लिए निकले. जज जेल के अंदर कोर्ट में ही सुनाएंगे फैसला
08.02 AM: जोधपुर के डीसीपी ने एबीपी न्यूज़ से कहा कि फिलहाल सुरक्षा के कड़े इंतजाम हैं. हमने किसी को इकट्ठा नहीं होने दिया है. सुबह की कोर्ट है इसलिए सुबह 10.30 बजे तक फैसला आ सकता है.
07.57 AM: जोधपुर पुलिस कमिश्नर अशोक राठौड़ ने एबीपी न्यूज़ से बात करते हुए कहा- हमने राम रहीम के फैसले के वक्त पंचकूला का कवरेज देखा था. हमने उसी हिंसा के मद्देनजर अपनी रणनीति तैयार की है.
07.50 AM: जज मधुसूदन शर्मा कोर्ट पहुंचे, यहां से वे जोधपुर सेंट्रल जेल जाएंगे.
07.34 AM: जज मधुसूदन शर्मा घर से निकले.
07.37 AM: आसाराम पर फैसला जोधपुर जेल के भीतर ही सुनाया जाएगा. फैसला सुनाने वाले जज मधुसूदन शर्मा सबसे पहले जिला अदालत पहुंचेंगे, वहां कामकाज निपटाएंगे और फिर जोधपुर सेंट्रल जेल जाएंगे. स्थिति को ध्यान में रखते हुए जज के घर के बाहर भी सुरक्षा के बंदोबस्त किए गए हैं.
07.15 AM: जोधपुर में जेल और पूरे शहर में सुरक्षा के बेहद सख्त इंतजाम हैं. प्रशाशन चप्पे चप्पे पर नजर बनाए हुए है. किसी अनहोनी की आशंका के चलते कल केंद्र सरकार ने तीन राज्यों को अलर्ट भेजा था.

सुरक्षा के जबरदस्त इंतजाम किए गए
आसाराम के समर्थकों को शहर में घुसने से रोका जा रहा है. चप्पे चप्पे पर पुलिस तैनात है. हर अनहोनी से निपटने की तैयारी हो चुकी है, कल पुलिस ने फ्लैग मार्च भी किया. आसाराम पर फैसले के पहले एहतियात के तौर पर जोधपुर शहर के आसपास आसाराम के सभी आश्रमों को खाली करवा दिया गया है. कानून व्यस्वस्था बिगाड़नेवालों के लिए अस्थायी जेलें बनाई गई हैं. जोधपुर पुलिस के डीसीपी अमनदीप कपूर ने एबीपी न्यूज़ से कहा है कानून व्यवस्था बिगाड़ने वालों से सख्ती से निपटेंगे.
इनपुट:ABP


Like it? Share with your friends!

0
admin

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *