सिर्फ जि’स्म व्यापार के लिए बद’नाम है गोरखपुर देवरिया के ये होटल। ऐसे चलता है रैकेट


देवरिया के कुछ होटल देह व्यापार के लिए काफी समय से बदनाम रहे हैं। यहां सेक्स रैकेट का कारोबार पिछले कई वर्षो से चलता है। पहले भी इन होटलों में छापेमारी संदिग्ध अवस्था में महिला पुरूष पकड़े जा चुके हैं। नवागत एसपी के निर्देश पर सोमवार को कार्रवाई हुई तो रैकेट से जुड़े लोगों में हड़कंप मच गया। पूर्व में हुई कार्रवाई के दौरान होटल मालिकों को पुलिस ने बख्श दिया जिसका परिणाम रहा कि यह अवैध धंधा कुछ ही समय में दुबारा शुरू हो गया। बदनाम होटल पैसा कमाने के लिए कई तरीके अपनाते हैं। इसमें कुछ ऐसे भी है जहां घंटे के हिसाब से कमरे की बुकिंग होती है। आने वाले जोड़ों से मोटा पैसा वसूला जाता है। यहां जिले के अलावा बिहार व पड़ोस के कुछ जनपदों से भी युवतियां व युवक पहुंचते हैं। इनको पांच सौ से एक हजार रुपये में कमरा उपलब्ध कराया जाता है।

Advertisements

कुछ होटलों में वाट्सएप और फोन से भी कमरों की बुकिंग होती है। इसके लिए अतिरिक्त किराया लिया जाता है। अधिक पैसा लेकर होटल के कर्मचारी बिना किसी आईडी के भी कमरा उपलब्ध करा देते हैं। इसका प्रमाण सोमवार को हुई छापेमारी में पुलिस टीम को मिला। एक होटल में बरामद लोगों की संख्या इंट्री रजिस्टर में दर्ज संख्या से चार अधिक मिली। पुलिस अब उसकी भी जांच कर रही है। स्टेशन रोड पर चल रहे देह व्यापार से मोहल्ले के लोग परेशान थे। मोहल्ले के लोगों ने इसके बारे में कई बार पुलिस से शिकायत किया, लेकिन पुलिस इन होटलों पर कार्रवाई से कतराती रहती है। जिससे आस-पास के रहने वाले लोगों का घर से बाहर निकलना मुश्किल हो गया था। सबसे ज्यादे तो महिलाओं को परेशानी होती थी।

Advertisements

 

पुलिस की छापेमारी में कई रिश्ते भी शर्मशार होते नजर आए। बरामद लोगों में महिलाओं के साथ धरे गए लोगों में देवर व ससुर भी थे। पूछताछ में इनमें से कुछ ने बताया कि वे इलाज कराने आए थे। रिश्तों की दुहाई देकर कुछ लोग पुलिस से मनुहार करते रहे। इसके अलावा दबोचे गए लोगों में कुछ प्रेमी युगल भी थे। पुलिस देर रात तक रिश्तों का पहचान करने में भी जुटी रही। सूत्रों की मानें तो शहर में मोबाइल व व्हाट्सएप के सहारे सेक्स रैकेट का संचालन हो रहा है। मोबाइल के जरिए ही होटल की बुकिंग के साथ पुरुष और महिलाओं को समय भी बताया जाता है। पुलिस की जांच में धरे गए कुछ लोगों और होटल कर्मियों के मोबाइल से इसकी पुष्टि हुई।

सेक्स रैकेट से जुड़े होटलों में सब कुछ काफी सतर्कता से किया जाता है। पुलिस की छापेमारी में खुलासा हुआ कि यहां कमरे बुक करने के लिए महिलाओं की आईडी नहीं ली जाती थी। होटलों में जो भी कमरे बुक थे उसमें से अधिकांश पुरूषों के नाम पर ही थे। पुलिस होटल मालिकों की इस मनमानी की भी जांच कर रही है।
पुलिस के नाक के नीचे फल फूल रहा था कारोबार शहर के अलग अलग होटलों में सेक्स रैकेट का कारोबार पुलिस के नाक के नीचे फल फूल रहा था। पुलिस शहर में चल रहे रैकेट पर रोक लगाने में नाकाम रही थी। स्टेशन रोड पर छोटे बड़े एक दर्जन से अधिक होटल है। इसमें से आधा दर्जन से अधिक होटल में यह कारोबार चलता है। रेलवे पुलिस चौकी के समीप के होटलों में यह कारोबार चल रहा था। लेकिन इन पर कोई कार्रवाई नहीं कर रहा था। जिससे पुलिस पर भी सवाल उठ रहे थे।

छापेमारी के दौरान धरे गए महिलाओं और पुरूषों से पूछताछ करने डीएम अमित किशोर व एसपी श्रीपति मिश्र भी सोमवार की देर शाम महिला थाने पहुंचे। दोनों अधिकारियों ने काफी देर तक छापेमारी की पूरी कार्रवाई के बारे में जानकारी ली। अधिकारियों ने पूरी जांच के बाद सख्त कार्रवाई का निर्देश मातहतों को दिया। पुलिस की छापेमारी की भनक लगते ही अधिकारियों के फोन की घंटियां भी घनघनाने लगी। फोन करने वाले कुछ लोग घटना की जानकारी तो कुछ लोग सिफारिश कर रहे थे। कोतवाली व महिला थाने के सीयूजी पर भी देर रात तक फोन आते रहे। इस दौरान सिफारिश करने और रिश्तों की दुहाई देने से अधिकारी काफी परेशान रहे।


Like it? Share with your friends!

-1

Comments 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सिर्फ जि’स्म व्यापार के लिए बद’नाम है गोरखपुर देवरिया के ये होटल। ऐसे चलता है रैकेट

log in

Become a part of our community!

reset password

Back to
log in
Bitnami