वोडाफोन और आइडिया के यूजर्स हैं तो ध्यान दें, आपके लिए ही है यह जरूरी खबर


वोडाफोन और आइडिया के यूजर्स के लिए एक बड़ी खबर सामने आयी है. वो ये कि दोनों कंपनी मिलकर अब एक होने वाली है. वोडाफोन और आइडिया को मर्ज की करने की मंजूरी भारत सरकार ने दे दी है. मर्ज होने के बाद कंपनी का नाम ‘वोडाफोन आइडिया लिमिटेड’ हो सकता है, ऐसा मीडिया रिपोर्ट में कहा जा रहा है. हालांकि अभी इस बारे में आधिकारिक तौर पर कुछ नहीं कहा गया है.

वोडाफोन-आइडिया मर्ज को टेलीकॉम डिपार्टमेंट ने सशर्त मंजूरी देते हुए आइडिया सेल्युलर से वोडाफोन स्पेक्ट्रम के लिए 3 हजार 926 करोड़ रुपए कैश और बैंक गारंटी के तौर पर 3 हजार 942 करोड़ रुपए भुगतान करने को कहा है.

मीडिया सूत्रों के मुताबिक, नई कंपनी में वोडाफोन इंडिया के पास 45.1%, आदित्य बिरला ग्रुप के पास 26% और आइडिया के शेयर होल्डर्स के पास 28.9% की हिस्सेदारी होगी. इस हिसाब से आइडिया की हिस्सेदारी नई कंपनी में 54.9% की होगी. लोगों के मन में सवाल है कि क्या इस मर्जर के बाद नई सिम लेनी होगी? आपको बता दें कि दो साल पहले से ही 4जी सपोर्टेड सिम चलन में आ चुकी है.

इसलिए एक्सपर्ट्स यह कह रहें हैं कि इस बार पुरानी सिम बदलने की कोई जरुरत नहीं होगी. लेकिन कंपनी के मर्ज होने के बाद इनकी ब्रांडिग बदल जाएगी. जिसके बाद कंपनी का नया सिम बाजारों में आ जायेगा. तब नया सिम बदलकर लिया जा सकेगा.

Comments 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *

वोडाफोन और आइडिया के यूजर्स हैं तो ध्यान दें, आपके लिए ही है यह जरूरी खबर

log in

reset password

Back to
log in
error: Content is protected !!