भागलपुर से भटक कर यहां पहुंची डॉल्फिन, मार मारकर ग्रामीणों ने ले ली जान


भागलपुर से भटकर एक डॉल्फिन किऊल नदी में पहुंच गई। जहां कुछ ग्रामीणों ने उसे एक खरतरनक घड़ियाल समझ लिया और मार मारकर उसकी जान ले ली। ग्रामीणों ने ऐसा जानकारी के आभाव में कर दिया। आपको यह बता दें कि मुंगेर से भागलपुर के कहलगांव तक के गंगा नदी डॉल्फिन के लिए सुरक्षित जोन घोषित है। डॉल्फिन को सरकार ने राष्ट्रीय जल जीव घोषित कर रखा और इसकी सुरक्षा सरकार के स्तर से की जाती है।

बुधवार की सुबह नदी का जलस्तर घटते ही चानन प्रखंड क्षेत्र के खुटुपार पंचायत अंतर्गत किऊल नदी के वंशीपुर घाट पर स्थानीय ग्रामीणों की नजर डॉल्फिन पर पड़ी। बड़ी मछली समझकर ग्रामीणों ने उसे पानी से निकाल कर गांव ले आए। इसके बाद वहां देखने वालों की भीड़ लग गई। ग्रामीण विधोचू शर्मा, राजेश कुमार, राजो मंडल, सुधांशु कुमार, इसाद अंसारी आदि के अनुसार वे लोग घड़ियाल समझाकर डॉल्फिन को गांव ले आए।

जब बात मीडिया में आई तो डीएम शोभेंद्र कुमार चौधरी के आदेश पर वन विभाग के वनपाल एसके सोरेन ने वंशीपुर गांव पहुंच कर जल जीव की पहचान डॉल्फिन (सूंस) के रूप में की। उन्होंने वन विभाग के रेंजर संजीव कुमार को इसकी सूचना दी। सूचना पर रेंजर संजीव कुमार दल-बल के साथ पहुंचे और डॉल्फिन को अपने कब्जे में लेकर उसे ट्रैक्टर से मोहनकुंडी के पास किऊल नदी के गहरे पानी में छोड़ दिया। हालांकि लाठी डंडों पीटे जाने के वजह से वह पानी में डाले के साथ ही मर गया।


Comments 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *

भागलपुर से भटक कर यहां पहुंची डॉल्फिन, मार मारकर ग्रामीणों ने ले ली जान

log in

reset password

Back to
log in
error: Content is protected !!