भागलपुर: ठग गिरोह बांट रहे कर्मचारी बहाली का फर्जी नियुक्ति पत्र, नहीं लग रहा रोक


भागलपुर. समाहरणालय संवर्ग चतुर्थ वर्गीय कर्मचारी की बहाली के नाम पर फर्जीवाड़े का गोरखधंधा शुरू हो गया है। मगर जिला प्रशासन इस पर रोक लगाने में असमर्थ है। ठगी का यह गिरोह पटना से ही स्पीड पोस्ट के जरिए आवेदकों को नियुक्ति पत्र भेज रहा है। ताजा मामला अभ्यर्थी ज्योतिष कुमार का सामने आया है। उसे एक नियुक्ति पत्र मिला है, जिसे लेकर वह सोमवार को डीएम ऑफिस पहुंचा। वहां उसने पत्र दिखाकर हकीकत जाननी चाही। पत्र में कहा गया है कि अभ्यर्थी का चयन हो गया है। इसके लिए 12 हजार सिक्योरिटी मनी दो दिनों के अंदर जमा करने के बाद जांच टीम द्वारा प्रशिक्षण पत्र सौंपा जाएगा।

पत्र में यह भी है कि सेवानिवृति के बाद पेंशन नहीं मिलेगा। हालांकि जिला स्थापना से उन्हें बताया कि चतुर्थ वर्गीय कर्मचारी की बहाली जिलास्तर पर ही होनी है। इसका पटना और कर्मचारी चयन आयोग से कोई वास्ता नहीं है। 15 दिन पहले खगड़िया की एक महिला भी इसी तरह का पत्र लेकर पहुंची थी। एडीएम ने कहा था कि उस महिला को बुलाकर पूछताछ की जाएगी। उनसे पूछा जाएगा कि पत्र कहां से आया है।

कर्मचारियों को भेजे गए फर्जी नियुक्ति पत्र में ये है
पत्र बिहार स्टॉफ सलेक्शन कमिशन के लेटर हेड पर भेजा है और उस पर मुख्य आयुक्त डॉ. डीके शर्मा का नाम, हस्ताक्षर है। इसमें प्रशिक्षण पदाधिकारी संतोष तिवारी का भी नाम है। एप्वाइंटमेंट लेटर ऑफ वेरिफिकेशन डिपार्टमेंट लिखा हुआ है। आवेदन पत्र को आयुक्त कार्यालय भागलपुर की मुख्य शाखा सीधी भर्ती बोर्ड (दस्तावेज जांच विभाग) पटना द्वारा भेजा गया उल्लेखित है। आवेदक को रिक्त पदों पर (चतुर्थ वर्गीय पैनल निर्माण) नियुक्ति के लिए आवेदन दिया था। विभाग द्वारा 153 दावा आपत्ति की औपबंधिक मेधा सूची तैयार की है। पैनल निर्माण चतुर्थ वर्गीय अनुच्छेद के तहत आवेदक को सीधी भर्ती द्वारा पैनल निर्माण पद पर नियुक्ति के लिए चयन किया है।
इनपुट: DBC

Comments 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *

भागलपुर: ठग गिरोह बांट रहे कर्मचारी बहाली का फर्जी नियुक्ति पत्र, नहीं लग रहा रोक

log in

reset password

Back to
log in
error: Content is protected !!