भागलपुर: झाड़ी में फसी नाव, मांझी ने ऐसी बचाईं 50 जानें


भागलपुर: गुरुवार को यह नाव इस्माइलपुर से राघोपुर के लिए खुली। इस पर क्षमता से अधिक करीब 50 लोग सवार हो गए। गंगा की तेज लहरों में विक्रमशिला सेतु के नजदीक इसकी चरखी में झाड़ी फंस गई। नाविक ने नाव पर नियंत्रण खो दिया। नाव गंगा की तेज धार में बेकाबू होकर बहने लगी। इस पर सवार सभी लोगों के दिल की धड़कन बढ़ गई। लेकिन तैसे ही नाव कम गहराई के क्षेत्र में पहुंची, मांझी ने बांस की मदद से नाव को रोका। फिर गोता लगाकर चरखी से फंसी झाड़ी को निकाला। इसके बाद सभी लोग सकुशल राघोपुर घाट तक पहुंचे। नाव करीब 25 मिनट तक गंगा की धार में नियंत्रण खोकर भटकती रही।

जान जोखिम में डाल कर नाव पर सफर रहे लोग

इस्माइलपुर दियारा से आए दिन लोग इसी तरह नाव पर सफर करते हैं। इलाके में सरकारी नाव की कमी रहने पर लोग मजबूरी में निजी नाव पर रोजमर्रा के काम से नवगछिया व अन्य इलाके जाते हैं। प्रशासन ने नाव के ओवरलोडिंग पर रोक नहीं लगाई तो बड़ा हादसा हो सकता है।

60 हजार की अाबादी संकट में, मात्र 6 सरकारी नाव !
अवैध जुगाड़ पंपसेट वाले नावों पर प्रशासन का कोई नियंत्रण नहीं
इन अवैध जुगाड़ पंपसेट वाले नावों पर प्रशासन का कोई नियंत्रण नहीं है। नियम के अनुसार नाव चलाने के लिए निबंधन जरूरी होता है। इसमें क्षमता से अधिक लोगों को नहीं बैठाया जा सकता है। लेकिन प्रशासन इसकी जांच नहीं करता है। इस कारण कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है।
45 गांव बाढ़ की चपेट में हैं इस्माइलपुर प्रखंड के
70 हजार की आबादी को चाहिए आवागमन की सुविधा
6 नाव ही सरकार ने कराए हैं उपलब्ध, 12 से अधिक प्राइवेट नाव चल रहे हैं
45 गांव बाढ़ की चपेट में हैं इस्माइलपुर प्रखंड के
70 हजार की आबादी को चाहिए आवागमन की सुविधा
6 नाव ही सरकार ने कराए हैं उपलब्ध, 12 से अधिक प्राइवेट नाव चल रहे हैं
45 गांव बाढ़ की चपेट में हैं इस्माइलपुर प्रखंड के
70 हजार की आबादी को चाहिए आवागमन की सुविधा
6 नाव ही सरकार ने कराए हैं उपलब्ध, 12 से अधिक प्राइवेट नाव चल रहे हैं


Comments 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *

भागलपुर: झाड़ी में फसी नाव, मांझी ने ऐसी बचाईं 50 जानें

log in

reset password

Back to
log in
error: Content is protected !!