भागलपुर: जमीन की दलाली में फंसे यहां के जदयू विधायक, विधवा के करोड़ों डकारे, जांच रिपोर्ट में हुआ बड़ा खुलासा


भागलपुर: नाथनगर के जदयू विधायक अजय मंडल प्रॉपर्टी डिलिंग के एक मामले में फंस गए हैं। जगदीशपुर निवासी स्व. भोपाल मंडल की विधवा मीना देवी की साढ़े तीन एकड़ जमीन को बेचने के एवज में मिले रकम खुद ही डकार गए। विधवा जब बकाया पैसे की मांग करने लगी तो सहयोगी के जरिए बरारी थाने में विधवा समेत उसके बेटे सुमन कुमार मंडल व बेटी नीलम देवी पर एफआईआर भी करा दिया। पुलिस ने 30 अगस्त को सुमन को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। बुधवार को सुमन ने जिला जज की अदालत में जमानत अर्जी की दाखिल की। जिसमें तमाम कागजातों को अटैच किया गया है। इसी कागजातों में जगदीशपुर थानेदार नीरज कुमार तिवारी की भी गोपनीय रिपोर्ट है। जो मीना देवी के आवेदन के आलोेक में डीआईजी ने जांच को कहा था।

है मामला- मीना देवी की चक मोहम्मद में साढ़े तीन एकड़ जमीन (खाता संख्या 04, खेसरा 15, थाना 417, रकवा 4.8.12) जगदीशपुर थाना इलाके में है। इस जमीन को बेचने के लिए 24 मई 2016 को एक हजार रुपये के स्टांप पर जरबियाना किया गया। यह जरबियाना तीन लोगों के नाम से मीना ने की। विधायक अजय मंडल के अलावा बरारी हाउसिंग कॉलोनी निवासी देवनंदन मंडल व जगदीशपुर के ही प्रीतम कुमार मंडल को जरबियाना किया गया। यह अलग बात है कि विधायक व देवनंदन ने बाद में प्रीतम को भी पार्टनर से हटा दिया और खुद ही सारा डील कर लिया। प्रीतम ने शपथ पत्र देकर विधायक के करतूतों की कहानी बयां की है।

Advertisements

क्या है रिपोर्ट में : जांच रिपोर्ट के मुताबिक जमीन बेचने का सौदा 1.85 करोड़ में किया गया। विधायक ने पेशगी अमाउंट के रूप में 11 लाख रुपये मीना को दिए। यह जमीन विधायक ने मोजाहिदपुर थाना के सिकंदरपुर निवासी आनंद शुक्ला को दो करोड़ 53 लाख 542 रुपये में बेच दिया। इससे मीना के खाते में 25 लाख रुपये जमा कराया गया। विधायक व अन्य ने आनंद से जो पैसे लिए थे। उसका सबूत भी पुलिस के पास है। 22 सितंबर 2017 को विधायक ने 10 लाख रुपये आनंद से पाए थे।
जगदीशपुर थानेदार ने डीआईजी को दी रिपोर्ट, कहा- विधवा की जमीन बेचने में मिले रुपये विधायक के पास

छह-सात माह तक मीना को बरारी स्थित घर में छुपा कर रखा था
पुलिस ने गांव के अरविंद कुमार, गणेश मंडल, किशोर तांती, जिला परिषद सदस्य बीरबल कुमार के बयान में पाया कि देवनंदन ने तो मीना को जबरन छह-सात माह तक बरारी स्थित घर पर छुपाकर रखा था और सारा जमीन लिखवा लिया। पुलिस ने जांच में स्वीकारा कि जब मीना ने बकाया पैसे का तकादा किया तो उसपर व उसके परिजनों पर बरारी में थाना कांड संख्या 310/18 दर्ज करा दिया गया।

मैंने तो सिर्फ जमीन विवाद की पंचायत की थी। विधवा के बेटे व बेटियों ने पहले ही यह जमीन जगदीशपुर के उत्तम के नाम बेची थी। बाद में विधवा ने पति के संपत्ति का मोटेशन खुद के नाम किया और जमीन आनंद शुक्ला को बेच दी। विधवा बताए कि जमीन की रजिस्ट्री उसने क्यों नहीं की। रजिस्ट्री बेटा-बेटी ने क्यों किया। मैंने कोई पैसा नहीं पाया है। विधवा का आरोप गलत है। – अजय मंडल, जदयू विधायक, नाथनगर
इनपुट: DBC


Advertisements
Loading...

Like it? Share with your friends!

0

Comments 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *

भागलपुर: जमीन की दलाली में फंसे यहां के जदयू विधायक, विधवा के करोड़ों डकारे, जांच रिपोर्ट में हुआ बड़ा खुलासा

log in

Become a part of our community!

reset password

Back to
log in
Bitnami