भागलपुर की यह बेटी महिला क्रिकेट टीम में खेलेगी, मशहूर गेंदबाज मैकग्रा से ली है ट्रेनिंग


भागलपुर: चंपानगर के तांती टोला निवासी धर्मराज प्रसाद की बेटी रोहिणी राज का चयन राज्य महिला क्रिकेट टीम में हुआ है। मध्यम गति की तेज गेंदबाज रोहिणी हाल ही में चेन्नई से ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज ग्लैन मैकग्रा से प्रशिक्षण लेकर लौटी है। उसने मैकग्रा की निगरानी में गेंदबाजी के दौरान नेट प्रैक्टिस व ओपन फिल्ड के कई टिप्स भी जाने। रोहिणी को मैकग्रा के कैंप में भेजने में मास्टर बलास्टर सचिन तेंदुलकर की अहम भूमिका रही। तेंदुलकर दिल्ली में आशीष नेहरा की एकेडमी में खेल रही रोहिणी की गेंदबाजी से प्रभावित हुए और उन्होंने खुद मैकग्रा को मिलकर रोहिणी को ट्रेंड करने का अनुरोध किया। आस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज रहे डेनिस लिली द्वारा संचालित एमआरएफ पेस फाउंडेशन ने रोहिणी के कोलकाता व दिल्ली में कई मैचों के प्रदर्शन को देखते हुए संस्था से जुड़ने के लिए आमंत्रित किया था।

जबलपुर में पांडिचेरी टीम के खिलाफ करेगी गेंदबाजी
दिल्ली में आयोजित एमआरएफ पेस फाउंडेशन के कार्यक्रम में सचिन, मैकग्रा व कई दिग्गज क्रिकेटर जुटे थे। वहीं रोहिणी की मुलाकात तेंदुलकर ने मैकग्रा से करायी थी। रोहिणी सोमवार को स्टेट वुमंस टीम के साथ जबलपुर पहुंची। वहां चल रहे घरेलू टूर्नामेंट में वह पांडिचेरी टीम से भिड़ने वाली बिहार टीम में गेंदबाजी करेगी। रोहिणी स्टेट टीम में ओपनर गेंदबाज की भूमिका में है।

Advertisements

आईपीएल और महिला क्रिकेट को देख हुई थी प्रभावित
रोहिणी का चंपानगर से स्टेट टीम का सफर काफी संघर्ष भरा रहा। टीएनबी कॉलेज क्रिकेट ग्राउंड से बल्लेबाजी की शुरुआत करने वाली रोहिणी सैंडिस कंपाउंड में खेलने लगी। यहां क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. आनंद मिश्रा, सुबीर मुखर्जी उर्फ मामू आदि ने उसे नेट प्रैक्टिस में सहयोग किया। आईपीएल और महिला क्रिकेट को देखकर रोहिणी इतनी प्रभावित हुई कि गेंदबाजी को अपना कॅरियर बना लिया।

रणजी में बिहार को मान्यता मिलने पर दिल्ली से लौटी थी रोहिणी
रोहिणी के पिता भागलपुर में एक प्राइवेट फाइनांस कंपनी में चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी हैं। रोहिणी ने ओपन स्कूल से मैट्रिक व इंटर की पढ़ाई की। इसके बाद वह क्रिकेट में रम गई। घर से नजदीक टीएनबी कॉलेज ग्राउंड पर क्रिकेट खेलने लगी। लोगों ने उसे कोलकाता के क्लब से जुड़ने की सलाह दी।

परिवार के लोगों ने भी उसका साथ दिया। वह कोलकाता खेलने चली गयी। वहां से दिल्ली का रुख किया। वहां आशीष नेहरा की एकेडमी में प्रशिक्षण लेना शुरू किया। जब बिहार को रणजी के लिए मान्यता मिली तब वह बिहार लौट आई। रोहिणी के सपने को ऊंचाई तक ले जाने में उसकी बहन रजनी प्रभा, राजीव अंबष्ट, आनंद मिश्रा, सुबीर मुखर्जी आदि का अहम रोल रहा।
इनपुट: DBC

Advertisements
Loading...

Like it? Share with your friends!

0

Comments 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *

भागलपुर की यह बेटी महिला क्रिकेट टीम में खेलेगी, मशहूर गेंदबाज मैकग्रा से ली है ट्रेनिंग

log in

Become a part of our community!

reset password

Back to
log in
Bitnami