भागलपुर अमरजीत हत्याकांड का ख़ुलासा, DIG और नए SSP ने सुलझा दी पूरी गुथी


मार्बल व्यवसायी व ठेकेदार अमरजीत कुमार उर्फ बिट्टू की हत्या का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। डीआईजी विकास वैभव और एसएसपी आशीष भारती ने बताया कि 2.20 लाख में दोस्त अभिषेक और रिंकू सिंह ने राणा मियां को सुपारी देकर अमरजीत की हत्या कराई है। पुलिस ने अमरजीत के दोस्त रिंकू सिंह और राणा के गुर्गा शेरू मियां (खंजरपुर) को गिरफ्तार कर लिया है। अभिषेक पहले ही इस केस में जेल में है।

Advertisements

पुलिस की जांच में आया कि 75 लाख के लेनदेन में अमरजीत का उसके दोस्त अभिषेक से विवाद हो गया था। पैसा पचाने के उद्देश्य से अभिषेक और रिंकू सिंह ने मिलकर अमरजीत की हत्या की साजिश रची और इसमें राणा मियां का सहयोग लिया। हत्या में अभिषेक के स्टाफ लकी उर्फ शहनवाज (हुसैनपुर) ने अहम भूमिका निभाई। वह राणा से पूर्व परिचित है और उसने ही अभिषेक और राणा के बीच कड़ी का काम किया। फिलहाल लकी फरार है।

Advertisements

 

 

पुलिस उसकी गिरफ्तारी के लिए जिले के बाहर छापेमारी कर रही है। अमरजीत की हत्या में शामिल छह शूटरों में तीन की पहचान हो गई है। सारे शूटर लोकल हैं। जिन तीन शूटरों की पहचान हुई है, उसमें कुख्यात अपराधी एयाज उर्फनाढ़ा, आसिफ उर्फ लाल बाबू और आमिर (सभी मौलानाचक) शामिल हैं। 19 अप्रैल की रात घटनास्थल पर इन अपराधियों के मोबाइल का लोकेशन मिला है

 

 

खंजरपुर में शेरू मियां के घर जुटे थे अपराधी, वहीं बनी थी प्लानिंग मार्बल व्यवसायी हत्याकांड 

 

पुलिस ने घटनास्थल के पास के मोबाइल टावर का डंप लिया तो उसमें चार ऐसे मोबाइल नंबर मिले, जो राणा मियां के गुर्गो का था। इन चार नंबरों में घटना से पहले, घटना के बाद आपस में बातचीत के प्रमाण मिले हैं। हत्या से एक दिन पू‌र्व भी ये मोबाइल नंबर बड़ी पोस्ट ऑफिस के पास एक्टिव थे। इसमें एक नंबर शेरू मियां का था, जिसे पुलिस ने खंजरपुर से गिरफ्तार किया। पूछताछ में उसने कई अहम जानकारी दी।

 

 

उसने बताया कि हत्या से एक दिन पहले अमरजीत की रेकी उनलोगों ने की थी। वह कब आता है, कब जाता है, कितनी देर बड़ी पोस्ट ऑफिस के पास रुकता है, इन सारी बातों की जानकारी ली गई थी। हत्या से दस दिन पहले अपराधी एयाज उर्फ नाढ़ा, राणा मियां का संवाद लेकर शेरू के पास गया था। इससे पहले लकी ने शेरू को खबर कर दिया था कि राणा का एक काम है, जिसे करना है। लकी, शेरू, नाढ़ा ने अमरजीत की रेकी की थी। लकी ने शेरू को बताया था कि अमरजीत की हत्या के एवज में दो लाख रुपए राणा को दे दिया गया है। दो लाख के अलावा खाने-पीने के लिए 20 हजार रुपए अलग से भी देंगे


Like it? Share with your friends!

0

Comments 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *

भागलपुर अमरजीत हत्याकांड का ख़ुलासा, DIG और नए SSP ने सुलझा दी पूरी गुथी

log in

Become a part of our community!

reset password

Back to
log in
Bitnami