भागलपुर:विक्रमशिला एक्सप्रेस कभी भी दुर्घटनाग्रस्त हो सकती है


दो दिन पूर्व नई दिल्ली स्टेशन पर संपूर्ण क्रांति एक्सप्रेस का जनरल कोच यात्रियों के बोझ से ‘दब’ जाने की घटना के बाद भी मालदा मंडल सबक नहीं ले रहा है। भागलपुर से आनंद विहार टर्मिनल जाने वाली विक्रमशिला सुपरफास्ट एक्सप्रेस हर दिन ओवरवेट होकर रवाना हो रही है। इस ट्रेन के दोनों जनरल कोच में क्षमता से तीन गुणा यात्री सफर करते हैं। इस वजह से कोच का स्प्रिंग टूटने और शॉकर धंसने की संभावना बनी रहती है। अधिक भार के कारण पटरी पर दबाव बनता है। लेकिन जंक्शन पर ओवरवेट की जांच अधिकारी नहीं करते हैं। इसपर नियंत्रण नहीं हुआ तो किसी भी दिन विक्रमशिला दुर्घटनाग्रस्त हो सकती है।

भागलपुर से आनंद विहार टर्मिनल के बीच चलने वाली विक्रमशला एक्सप्रेस का परिचालन 2017 से एलएचबी कोच से किया जा रहा है। पहले आइएफएसी कोच होने के कारण इसमें जनरल क्लास की चार बोगियों लगी रहती थी। लेकिन एलएचबी होने के बाद इसमें जनरल क्लास की दो बोगियां कर दी गई। इन दो बोगियों में क्षमता से करीब तीन गुणा यात्री सफर करते हैं। ट्रेन के शौचालय तक यात्री जान को जोखिम में डालकर यात्रा करते हैं। ट्रेन के साधारण कोच में ओवरवेट की जांच कॉमर्शियल विभाग द्वारा नहीं किया जाता है। नतीजतन दुर्घटना की संभावना बनी रहती है।

 

सीट 212 और यात्री 500 पार

अभी विक्रमशिला एक्सप्रेस के एक जनरल कोच में 106 सीट है। दो बोगियों में 212 सीट है। लेकिन अमूमन 500 ज्यादा यात्री सफर करते हैं। सीट के अलावा यात्री फर्श लेकर शौचालय तक में खड़े होकर यात्रा करने को मजबूर हैं। क्षमता से अधिक यात्रियों के बैठने के कारण दोनों कोच की हालत ओवरवेट हो जाता है। इस कारण दुर्घटना की संभावना बनी रहती है।

 

यात्रियों को होना होगा जागरूक

विक्रमशिला एक्सप्रेस में जान जोखिम में डालकर यात्री सफर कर रहे हैं। कोच में ज्यादा भीड़ होने के बाद भी इस ट्रेन में चढ़ने से बाज नही आते हैं। इस ट्रेन से अमूमन कल-कारखाना और अन्य जगहों पर रोजगार करने वाले लोग ही सफर करते हैं। अच्छी ट्रेन होने की वजह से पड़ोसी जिले और प्रखंडों से भी लोग ट्रेन पकड़ने आते हैं। सुरक्षित यात्रा के लिए यात्रियों को भी जागरूक होने की जरूरत है।

 

 

भागलपुर में दिल्ली जाने वाले विक्रमशिला एक्सप्रेस में यात्रियों का काफी दवाब है। जनरल कोच में क्षमता से ज्यादा यात्री सवार होते हैं। कोच में क्षमता से ज्यादा यात्री सवार नहीं हो, इसके लिए आरपीएफ और कॉमर्शियल विभाग को निर्देश दिया गया है।

-बीके साहू, एडीआरएम, मालदा।


Like it? Share with your friends!

1
1 point

Comments 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *

भागलपुर:विक्रमशिला एक्सप्रेस कभी भी दुर्घटनाग्रस्त हो सकती है

log in

reset password

Back to
log in
error: Content is protected !!