घर लौटने के लिए तैयार हैं तेजप्रताप, अभी अभी लेकिन रख दी यह बड़ी शर्त!


राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव की घर आने की राह उनका पूरा परिवार देख रहा है। कुछ महीने पहले पूर्व सीएम दारोगा राय की पोती ऐश्वर्या राय के साथ शादी के मधुर बंधन में बंधने वाले तेजप्रताप अब तलाक की मांग पर अड़ गए हैं. लेकिन उनका परिवार यह नहीं चाह रहा है. अपने परिवार से साथ मिलता नहीं देखकर तेजप्रताप काफी नाराज हैं और घर बाहर चलें गए हैं. तेजप्रताप फिलहाल हरिद्वार में हैं.

tejpratap yadav rjd

एक निजी चैनल से बातचीत में तेज प्रताप यादव ने कहा कि उनकी छोटी सी बात अगर माता-पिता मान लें तो वे घर लौट आएंगे. मेरी बात मानने के लिए कोई तैयार नहीं है. तेज प्रताप ने कहा कि उन्‍होंने तलाक की जो अर्जी फाइल की है, उसपर परिवार साथ दे. वे पत्‍नी ऐश्‍वर्या की मीठी-मीठी बातों में आने वाले नहीं हैं. तेज प्रताप ने कहा कि परिवार में लड़ाई-झगड़े हद पार कर गए थे. वह (पत्‍नी) मेरे लिए गंदे शब्‍द बोलती थी. वो अपनी जिंदगी में मस्‍त रहें, मैं अपनी जिंदगी में मस्‍त रहूं. हमने सोच-समझकर तलाक का फैसला लिया है, यह अटल है.

तेज प्रताप ने कहा कि वे परिवार के साथ हैं, लेकिन ऐश्‍वर्या के साथ रहना नहीं चाहते. उन्‍होंने घर में घुसे किसी विपिन नामक व्‍यक्ति के प्रति नाराजगी जताई तथा कहा कि वह उनके दोस्‍तों को बुलाकर प्रताडि़त कर रहा है. यह बर्दाश्‍त से बाहर है. तेज प्रताप ने कहा कि पार्टी में भी गुंडे-मवाली घुस गए हैं. उन्‍हें भी बाहर करना चाहिए. कुछ दुर्योधन लगे हुए हैं, लेकिन वे अपने अर्जुन (तेजस्‍वी) से दूर नहीं हैं. परिवार वालों से भी उनकी बात हो रही है. पिता लालू प्रसाद यादव से भी बात हुई है, वे ठीक हैं.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार तेजप्रताप फिलहाल वृंदावन में घर-परिवार की शांति के लिए ‘शत्रु हंटा यज्ञ’ करा रहे हैं. उन्‍होंने फोन कर तेजस्‍वी को आज जन्‍मदिन की बधाई दी है. दोनों भाइयों में लंबी बातचीत हुई है. कहा जा रहा है कि तेजस्‍वी ने बड़े भाई को बहुत समझाया, उन्‍हें परिवार वालों की हालत से अवगत कराया. संभव है इसका असर तेज प्रताप पर पड़े और कोई शुभ समाचार मिले.

Comments 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *

घर लौटने के लिए तैयार हैं तेजप्रताप, अभी अभी लेकिन रख दी यह बड़ी शर्त!

log in

reset password

Back to
log in
error: Content is protected !!