क्लिक कर जानिए प्रवासी भारतीय केंद्र के सारे महत्वपूर्ण बातें और ईमेल, जानकारी ज़रूर शेयर करें


विदेश में प्रवासी भारतीय केंद्र

वाशिगंटन, आबु धाबी और कुआलालंपूर में इन देशों में मंत्रालय के क्षेत्र संगठनों के रूप में तीन प्रवासी भारतीय केंद्र स्‍थापित किए गए हैं। इन देशों में रहने और काम करने वाले प्रवासी भारतीयों से संबंधित सभी मामलों में केंद्र का क्षेत्राधिकार होगा। केंद्र के अध्‍यक्ष, निदेशक स्‍तर के अधिकारी है जिनकी सहायता के लिए स्‍टॉफ है। इन तीनों केंद्रो के लिए स्‍टॉफ की मंजूरी पहले ही दी जा चुकी है। प्रवासी भारतीयों के लिए शिकायत निवारण तंत्र को सुदृढ करने के अलावा, केंद्र प्रत्‍यक्ष आउटसोर्सिंग अथवा उपयुक्‍त सार्वजनिक-प्राईवेट साझेदारी के जरिए आर्थिक, सामाजिक और सांस्‍कृतिक मामलों में प्रवासी भारतीयों को सेवाएं प्रदान करने के लिए आवश्‍यक सस्‍ंथागत प्रबंध करेगा।

वाशिगंटन

वाशिंगटन केंद्र ,प्रवासी भारतीयों के संरक्षण ओर कल्‍याण से संबधित मामलों में, यथावश्‍यक, स्‍थानीय सरकार के साथ संर्पक रखने सहित संगत कार्यों का निर्वहन करेगा।

केंद्र निम्‍नलिखित कार्यों का निर्वहन करेगा: 

  • उत्‍तरी अमेरिका में भारतीय एसोसिएशनों के साथ उनकी आवश्‍यकताओं और शिकायतों को समझने के लिए नैटवर्किंग करना और भारतीय मिशनों के परामर्श से ऐसे कार्यक्रम आयेजित करने जो उनकी आवश्‍यकताओं की पूर्ति करेगें ।ओआईएफसी के समन्‍वय में प्रवासी ज्ञान नेटवर्क का संवर्धन महत्‍वपूर्ण उत्‍तरदायित्‍व होगा।

 

  • जरूरतबंद प्रवासी भारतीयों को ओआईसी नियुक्‍त किए जाने वाले व्‍यवसायिक परामर्शदाताओं के जरिए विधिक और चिकित्‍सा प्रदान करने की व्‍यवस्‍था करना। आवश्‍यक परामर्शी केंद्रों की व्‍यवस्‍था की जाए ताकि पीडित प्रवासी भारतीय इस सुविधा का पूर्व-घोषित स्‍थान और समय पर प्रयोग कर सकें।

 

  • भारत में निवेश अवसरों से संबंधित जागरूकता संगोष्टियों और कार्यशालाओं का आयोजन करना। प्रेषितों को उत्‍पादक निवेशें में लगाने के प्रयास किए जाने चाहिए। प्रवासी भारतीय सुविधा केंद्र (ओआईएफसी) द्वारा तैयार उश्‍पयुक्‍त उत्‍पादों और परियोजनाओं को विभिन्‍न उत्‍तरी अमरीकी देशों में निवेश रोड शो आयोजित करके प्रवासी भारतीयों को उपलब्‍ध कराए जाएगें।

 

  • परिषद की सहायता से भारत से भारत से उत्‍तरी अमरीका में स्वरूप, चयन और प्रवास उन्‍नति के अभिज्ञान के लिए प्रवासी रोजगार (सीओपीई) के संवर्धन हेतु, यथावश्‍स्क क्षेत्र अध्‍ययन करना और श्रमिक प्रवासन व उत्‍प्रवास से संबंधित नीति निर्धारण हेतु आवश्‍यक प्रतिपुष्टि और इनपुट प्रदान करना।

 

  • प्रवासी कामगार संसाधन केंद्र (आईडब्‍लयूआरसी) और भारतीय समुदाय कल्‍याण निधि की स्‍थापना और संचालन में भारतीय मिशनों की सहायता करना। . · भारतीय मिशनों के परामर्श से ऐसे शैक्षणिक और सांकृतिक कार्यकलाप करना जो उत्‍तरी अमरीका में प्ररवासी भारतीयों के जीवन-यापान मानकों को बेहतर बनाने के लिए संगत हों।

 

  • भारतीय राज्‍यों का, उन राज्‍यों के कामगारों के समक्ष आ रही समस्याओं पर राज्‍य सरकार के प्राधिकारियों को अवगत कराने के लिए दौरा करना और प्रवासी कामगारों की समस्‍याओं का समाधान करने के लिए राज्‍य सरकार को तात्‍कालिक उपाय सुझाना और निवेश संवर्धन के लिए राज्‍य की पहलों का समर्थन करना।

 

  • मंत्रालय द्वारा आवंटित प्रवासी भारतीयों से संबंधित अन्‍य कर्तव्‍य और कार्य करना। .

आबू धाबी

परामर्शद (सामुदायिक मामले), आबू धाबी की अध्‍यक्षता में विदेशी भारतीय केंद्र (ओआईसी) यूएई में अवस्थित विदेशी भारतीय समुदाय की आवश्‍यकताओं की पूर्ति के लिए कार्य कर रहा है। परामर्शद (सामुदायिक मामले) निम्‍नलिखित कार्यो का निर्वहन करेगा:

  • श्रमिकों की ओर से गंभीर समस्या होने पर स्‍थानीय सरकारी एजेंसियों से निकट संपर्क करके भारतीय कामगारों की समस्‍याओं का समाधान करना।
  • भारतीय कामगारों के कल्याण के लिए मंत्रालय द्वारा अनुमोदित नीतियों का कार्यान्‍वयन.

 

  • दुबई से भरतीय कामगार संसाधन केंद्र (आईडब्‍लयूआरसी) की स्‍थापना करना। आईडब्‍लयूआरसी निम्‍नलिखित सेवाएं प्रदान करेगा:
    • भारतीय समुदाय के लिए प्रभावी शिकायत निवारण तंत्र।
    • दुबई, आबू धाबी, शारजहां, फुजईराह और रास-अल-केमाह में परामर्श केंद्र।
    • भारतीय समुदाय के लिए जागरूकता कार्यक्रम ।
    • नई प्रक्रिया, जब कभी प्रभावी हो, में रोजगार संविदा का साक्ष्‍यांकन करना।

 

  • विदेशी भारतीयों को निवेश परामर्शी सेवाएं प्रदान करना। विदेशी भारतीयों विशेषकर खाडी क्षेत्रों में, नए बचतकर्ता बनने के बजाय निवेशक बनने हेतु निवेश परामर्शी सेवाएं प्रदान करना।

 

  • भारतीय कामगारों के साथ-साथ जरूरतबंद भारतीय महिलाएं जो विदेशों में सामरिक कठिनाईयों का सामना कर रही है, उन्‍हें विधिक और चिकित्‍सा संबंधी परामर्श देना।

 

  • महिला के संबंध में, वांछित विधिक अथवा चिकित्सा की व्‍यवस्‍था करने के अलावा, वे भारत में उनके परिजनों से संपर्क सथापित करने में सहायता प्रदान करेगें ओर यदि आवश्‍यक हो तो, उनके रिश्‍तेदारों के सहयोग से उनके देश-प्रत्‍यावर्तन की व्‍यवस्‍था करेगें।

 

  • संपर्क श्री. आनंद बर्धन, निदेशक (सामुदायिक मामले), भारतीय दूतावास, आबू धाबी
    ईमेल : ccad@indembassy.uae.org

Comments 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *

क्लिक कर जानिए प्रवासी भारतीय केंद्र के सारे महत्वपूर्ण बातें और ईमेल, जानकारी ज़रूर शेयर करें

log in

reset password

Back to
log in
error: Content is protected !!